नई दिल्ली : हर तरफ तमाम तरह के आरोपों व प्रत्यारोपों के बीच भारत सरकार के लिए संयुक्त राष्ट्र से एक अच्छी खबर आई है। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के मुताबिक 2019 में मानव विकास सूचकांक में भारत ने एक स्थान की छलांग लगाई है और 189 देशों के बीच इसकी रैंकिंग 129 हो गई है।

यूएनडीपी की भारत में स्थानीय प्रतिनिधि शोको नोडा ने कहा कि भारत में 2005-06 से 2015-16 के बीच 27.1 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकाला गया। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष भारत की रैंकिंग 130 थी। तीन दशकों से तेज विकास के कारण यह प्रगति हुई है जिसके कारण गरीबी में कमी आई है। साथ ही जीवन प्रत्याशा, शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं तक पहुंच में बढ़ोतरी के कारण भी रैंकिंग सुधरी है।

इसे भी पढ़ें :

भारत की अनीता भाटिया को संयुक्त राष्ट्र में मिली बड़ी जिम्मेदारी, महासचिव ने दी तैनाती

वेंकय्या नायडू ने कहा, राष्ट्र विकास में निजी क्षेत्र की भूमिका महत्वपूर्ण

मानव विकास सूचकांक के मुताबिक किसी अन्य क्षेत्र में इतनी तेजी से मानव विकास प्रगति नहीं हुई है। सर्वाधिक प्रगति दक्षिण एशिया में हुई है जहां 1990-2018 के दौरान 46 फीसदी बढ़ोतरी हुई जबकि पूर्वी एशिया और प्रशांत क्षेत्र में 43 फीसदी वृद्धि हुई।