स्टॉकहोम : रसायन विज्ञान के क्षेत्र में सराहनीय काम करने के लिए नोबेल पुरस्कार के नामों की घोषणा हो गई है। बुधवार को जॉन बी. गुडएनफ, एम. स्टैनली विटिंघम और अकीरा योशिनो को लिथियम-आयन बैटरी के विकास के लिए संयुक्त रूप से नोबेल पुरस्कार देने की घोषणा हुई।

ऑस्टिन में टेक्सास विश्वविद्यालय के जॉन बी. गुडएनफ, बिंघमटन विश्वविद्यालय के एम. स्टैनली विटिंघम और मिजो विश्वविद्यालय के अकीरा योशिनो को पुरस्कार के तौर पर 90 लाख स्वीडिश क्रोनर (912,000 डॉलर) मिलेंगे, जिसे वह समान रूप से साझा करेंगे।

प्रो. गुडएनफ 96 साल की उम्र में यह अवार्ड जीतने वाले सबसे उम्रदराज व्यक्ति बन गए हैं। रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज द्वारा प्रदान किया जाता है। यह उन पांच नोबेल पुरस्कारों में से एक है, जो अल्फ्रेड नोबेल की याद में प्रदान किए जाते हैं।

इससे पहले शरीर विज्ञान या चिकित्सा के क्षेत्र में योगदान के लिए 2019 का नोबेल पुरस्कार इस बार तीन वैज्ञानिकों विलियम जी कालिन, पीटर जे रेटक्लिफ और ग्रेग एल सेमेंजा को प्रदान किया जाएगा।

यह भी पढ़ें :

2 अमेरिकी समेत 3 सांइटिस्टों को मेडिकल का नोबेल, इनके रिसर्च से एनिमिया कैंसर से निजात

नोबेल समिति ने सोमवार को घोषणा की कि उन्हें ‘कोशिकाओं के ऑक्सीजन की उपलब्धता का आभास करने और उसके अनुकूल बनने' पर उनकी खोज के लिए संयुक्त रूप से विजेता घोषित किया गया है।