इस्लामाबाद : पाकिस्तान आज अंतरराष्ट्रीय न्यायिक अदालत (आईसीजे) के 17 जुलाई के फैसले के अनुसार कुलभूषण जाधव को कॉन्सुलर पहुंच मुहैया कराएगा। सोमवार दोपहर 12 बजे कुलभूषण जाधव को सिर्फ दो घंटे के लिए ये एक्सेस मिलेगा।

पाकिस्तान के विदेश विभाग के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने एक ट्वीट में कहा, "भारतीय जासूस, भारतीय नौसेना के अधिकारी और रॉ ऑपरेटिव, कमांडर कुलभूषण जाधव को कांसुलर संबंधों पर वियना संधि, आईसीजे के फैसले और पाकिस्तान के कानून के आधार पर सोमवार दो सितंबर, 2019 को कांसुलर पहुंच मुहैया कराई जाएगी।"

पाकिस्तान ने इसके पहले एक अगस्त को कांसुलर पहुंच की पेशकश की थी, लेकिन उसमें शर्त यह थी कि साथ में एक पाकिस्तानी अधिकारी भी होगा। भारत ने दो अगस्त को पाकिस्तान से कहा था कि वह जाधव को बिना शर्त कांसुलर पहुंच सुलभ कराए, वह भी भयमुक्त वातावरण में।

आईसीजे ने 17 जुलाई के अपने आदेश में पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत द्वारा कथित जासूसी के लिए जाधव को सुनाई गई मौत की सजा पर स्थगन बरकरार रखा था। आईसीजे ने पाकिस्तान से कहा था कि वह जाधव को वियना संधि के अनुच्छेद 36 के तहत उनके अधिकारों के बारे में तत्काल सूचित करे और उन्हें कांसुलर पहुंच मुहैया कराए।

आईसीजे ने अपने आदेश में पाकिस्तान से कहा था कि वह जाधव को दोषी ठहराए जाने और सजा सुनाए जाने की प्रभावी समीक्षा करने और उसपर पुनर्विचार करे।