दो दिवसीय दौरे पर थिम्पू पहुंचे पीएम मोदी, दिया गया गार्ड ऑफ ऑनर  

पीएम नरेंद्र मोदी  - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय भूटान दौरे के लिए पहुंच गए है। भूटान की राजधानी थिम्पू में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत हुआ। पीएम मोदी ने भूटान रवाना होने से पहले उम्मीद जतायी कि भूटान के नेतृत्व के साथ उनकी बातचीत सार्थक रहेगी और विश्वास जताया कि इससे हमारी मित्रता और मजबूत होगी। आपको बता दें कि पीएम मोदी का यह दूसरा भूटान दौरान है। थिम्पू पहुंचने पर पीएम मोदी को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।


पीएम मोदी ने एक वक्तव्य जारी कर कहा, “मैं द्विपक्षीय संबंधों के तमाम पहलुओं पर भूटान नरेश, पूर्व नरेश और वहां के प्रधानमंत्री के साथ सार्थक बातचीत को लेकर आशान्वित हूं। मैं भूटान के रायल विश्वविद्यालय के छात्रों को संबोधित करने को लेकर भी उत्सुक हूं।”


प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा, '17 और 18 अगस्त को मैं एक द्विपक्षीय यात्रा के लिए भूटान में रहूंगा, जो हमारे विश्वस्त मित्र और पड़ोसी के साथ मजबूत संबंधों से जुड़े उच्च महत्व को दर्शाता है। मैं इस यात्रा के दौरान कई तरह के कार्यक्रमों में भाग ले रहा हूं।


इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि भूटान की उनकी दो दिवसीय यात्रा दोनों देशों के बीच समय की कसौटी पर खरी उतरने वाली मित्रता को और बढ़ावा देगी और एक समृद्ध भविष्य के लिए इसे मजबूत करेगी। मोदी की भूटान यात्रा शनिवार से आरम्भ होगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार के मौजूदा कार्यकाल की शुरुआत में यह यात्रा दिखाती है कि भारत ‘‘हमारे विश्वसनीय मित्र एवं पड़ोसी'' भूटान के साथ संबंधों को कितना महत्व देता है।

मोदी ने अपने प्रस्थान संबंधी बयान में कहा, ‘‘भारत और भूटान के बीच बेहतरीन द्विपक्षीय संबंध हैं और हमारी विस्तृत विकास साझीदारी, दोनों देशों के लिए लाभकारी पनबिजली सहयोग और मजबूत व्यापार एवं आर्थिक संबंध इसका उदाहरण हैं। हमारी साझी आध्यात्मिक विरासत और लोगों के बीच मजबूत आपसी संबंध इसे और सुदृढ़ बनाते हैं।''

इसे भी पढ़ें :

भाषण के बाद लाल किले पर बच्चों के बीच पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी

लालकिले से बोले PM मोदी- ‘J&kके लोगों की उम्मीद को पूरा करना हमारा दायित्व’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे भरोसा है कि मेरी यात्रा भूटान के साथ समय की कसौटी पर खरी उतरी और हमारी मूल्यवान मित्रता, को प्रोत्साहित करेगी और दोनों देशों के लोगों की प्रगति एवं समृद्ध भविष्य को और मजबूत करेगी।''

मोदी ने कहा कि भारत-भूटान साझीदारी ‘पड़ोसी पहले' की भारत की नीति का महत्वपूर्ण स्तम्भ है। प्रधानमंत्री मोदी अपनी यात्रा के दौरान भूटान नरेश जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक और भूटान के चौथे नरेश जिग्मे सिग्ये वांगचुक से भेंट करेंगे। वह अपने भूटानी समकक्ष डॉ. लोटे शेरिंग के साथ भी बैठक करेंगे।

मोदी ने कहा कि वह भूटान नरेश, भूटान के पूर्व नरेश और भूटान के प्रधानमंत्री के साथ द्विपक्षीय संबंधों पर फलदायी बातचीत करने को लेकर उत्साहित हैं। मोदी इस यात्रा में भूटान की प्रतिष्ठित ‘रॉयल यूनिवर्सिटी' के छात्रों को भी संबोधित करेंगे।

Advertisement
Back to Top