नई दिल्लीः भारत और चीन जैसे देश अपने यहां तेजी से बढ़ती हुई जनसंख्या के कारण जहां परेशान है। वहीं दुनिया में एक ऐसा भी देश है जहां लोगों को अधिक से अधिक बच्चे पैदा करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।

यही नहीं सरकार अपने यहां बच्चों की संख्या को और भी अधिक बढ़ाने के लिए नई-नई योजनाएं भी लागू कर रही है। हम जिस देश की बात कर रहे है उसका नाम है हंगरी। आपको बता दें कि हंगरी के प्रधानमंत्री विक्टर ऑर्बन ने देश में बच्चों की संख्या को बढ़ाने के लिए कई बड़े ऐलान किए है।

पीएम ऑर्बन ने कहा, जिन औरतों के चार या उससे भी अधिक बच्चे होंगे उन्हें जीवनभर कर नहीं देना होगा। साथ ही उनके द्वारा लिए गए कर्ज से भी उन्हें मुक्ति मिलेगी।

तीन बच्चे करने पर नहीं देना होगा कर्ज

पीएम के मुताबिक हंगरी में जनसंख्या बढ़ाने के लिए युवा लोगों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। उन्होंने कहा युवा जोड़ों को जनसंख्या में बढ़ोत्तरी करने के लिए और अधिक से अधिक बच्चे पैदा करने के लिए प्रोत्साहन स्वरूप बिना ब्याज के 26 लाख रुपये का ऋण दिया जा रहा है। यही नहीं अगर कोई भी युवा जोड़ा तीन या उससे भी अधिक बच्चे पैदा करता है तो उसका कर्ज माफ हो जाएगा।

इसे भी पढ़ेंः

मैं किसी भी पूर्व राष्ट्रपति की तुलना में अधिक काम करता हूं: डोनाल्ड ट्रम्प

आखिर क्यों पड़ी जनसंख्या बढ़ाने की जरूरत

पीएम ऑर्बन के मुताबिक, देश की जनसंख्या में हर साल 32 हजार की कमी आ रही है। जहां यूरोपीय संघ के मुकाबले महिलाओं के बच्चों की औसत संख्या भी कम है। पश्चिमी देश प्रवासियों को कम आबादी की समस्या के रूप में देखते हैं जबकि हंगरी के लोगों की सोच दूसरी है। उन्होंने दलील दी कि हमें जनसंख्या की नहीं बल्कि नागरिकों की आवश्यकता है।