कोलंबो : रानिल विक्रमसिंघे ने रविवार को दोबारा प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। उन्हें राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने इस पद की शपथ दिलाई। विक्रमसिंघे को अक्टूबर माह में इस पद से हटा दिया गया था।

इस कदम के साथ देश में करीब दो महीने से चला आ रहा राजनीतिक संकट समाप्त हो गया, जो विक्रमसिंघे को अचानक हटाए जाने के बाद उत्पन्न हो गया था।

इसे भी पढ़ें :

श्रीलंका संसद भंग करने के राष्ट्रपति के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

श्रीलंका संसद ने प्रधानमंत्री राजपक्षे के खिलाफ पारित किया अविश्वास प्रस्ताव

'कोलंबो पेज' के मुताबिक, विक्रमसिंघे, जो सत्तारूढ़ यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) के नेता भी हैं, उन्होंने यहां राष्ट्रपति सचिवालय में पद की शपथ ली। उनकी कैबिनेट का हिस्सा बनने वाले मंत्री सोमवार को शपथ लेंगे।

26 अक्टूबर को विक्रमसिंघे की बर्खास्तगी के बाद सिरिसेना द्वारा नियुक्त किए जाने के सात सप्ताह बाद महिंद्रा राजपक्षे ने शनिवार को प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद रविवार को विक्रमसिंघे ने शपथ ली। संसद ने बुधवार को विक्रमसिंघे के पक्ष में विश्वास मत पारित किया।

सर्वोच्च न्यायालय ने अगले दिन अपने फैसले में कहा कि सिरिसेना द्वारा नवंबर में संसद को भंग करने का फैसला अवैध था।