नई दिल्ली : ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध को देखते हुए सऊदी अरब भारत को अतिरिक्त कच्चा तेल मुहैया कराएगा। ईरान पर चार नवंबर से अमेरिकी प्रतिबंध प्रभावी होंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, दुनिया का सबसे बड़ा तेल निर्यातक देश सऊदी अरब भारत को चालीस लाख बैरल से ज्यादा तेल की आपूर्ति करेगा।

यह आपूर्ति चार भारतीय रिफाइनरियों को की जाएगी। रिलायंस इंडस्ट्रीज लि., हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन, भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन व मंगलौर रिफाइनरी पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड इनमें शामिल हैं। अभी इस बात की पुष्टि इनमें से किसी कंपनी की ओर से नहीं हुई है।

अभी सऊदी अरब से भारत हर महीने औसतन 2.5 करोड़ बैरल कच्चा तेल आयात करता है। भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल आयातक देश है। भारतीय कंपनियां कच्चे तेल के बड़े हिस्से के लिए ईरान पर निर्भर हैं। ऐसे में अमेरिकी प्रतिबंध के बाद कच्चे तेल की जरूरत पूरी करने के लिए उन्हें अन्य विकल्प तलाशने होंगे।

इसे भी पढ़ें :

घरेलू बाजार में पिछले सत्र में कच्चा तेल 3 फीसदी उछला

अमेरिका 2018 में दुनिया में तेल का बादशाह बनने की ओर

हाल ही में केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने स्पष्ट किया था कि अमेरिकी प्रतिबंध प्रभावी होने के बाद भी ईरान से तेल आपूर्ति जारी रखी जाएगी। दो सरकारी कंपनियों ने नवंबर के लिए तकरीबन 90 लाख बैरल तेल खरीद का सौदा ईरान से किया है। इनमें इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन भी शामिल है।

धर्मेंद्र प्रधान ने कहा था, "हमने ईरान से तेल खरीदने का अपना विकल्प जारी रखा है। नवंबर के लिए भी भारत की दो तेल कंपनियों ने ईरान से तेल खरीदने का समझौता किया है।"