नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज ब्रिक्स सम्मेलन में शिरकत करेंगे। ब्राजील की राजधानी ब्रासीलिया में आयोजित होने वाला यह 11वां ब्रिक्स सम्मेलन है। इस सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी आतंकवाद विरोधी सहयोग बढ़ाने पर जोर दे सकते हैं। वह ब्रिक्स बिजनेस फोरम को संबोधित करेंगे।

ब्रिक्स शिखर सम्मेलन दुनिया की पांच प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के बीच डिजिटल अर्थव्यवस्था, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, आतंकवाद विरोधी तंत्र को लेकर सहयोग सहित प्रमुख क्षेत्रों में सहयोग को मजबूत बनाने पर केंद्रित होगा।

ब्रिक्स शिखर सम्मेलन 13-14 नवम्बर को ब्राजील में आयोजित हो रहा है, जिसकी थीम ‘‘नवोन्मेषी भविष्य के लिए आर्थिक वृद्धि'' है।

मोदी ने ब्राजील रवाना होने से पहले ट्वीट किया ‘‘मैं 13-14 नवम्बर को ब्राजील में आयोजित हो रहे ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में हिस्सा लूंगा। इस शिखर सम्मेलन की थीम ‘नवोन्मेषी भविष्य के लिए आर्थिक वृद्धि' है। मैं ब्रिक्स नेताओं के साथ विविध विषयों पर व्यापक सहयोग के संबंध में चर्चा को लेकर आशान्वित हूं।''

उन्होंने कहा, ‘‘ ब्रिक्स शिखर सम्मेलन से इतर, मैं ब्रिक्स बिजनेस फोरम को संबोधित करूंगा और ब्रिक्स बिजनेस काउंसिल एवं न्यू डेवेलपमेंट बैंक से संवाद करूंगा। इसमें आर्थिक संबंधों और ब्रिक्स देशों के साथ सहयोग को बेहतर बनाने पर जोर होगा।''

मोदी ने कहा, ‘‘ ब्राजील की इस यात्रा के दौरान राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो के साथ भारत-ब्राजील सामरिक संबंधों को और गहरा बनाने के बारे में चर्चा करने का मौका मिलेगा। कारोबार, रक्षा, कृषि और ऊर्जा के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने की काफी क्षमता है।''

प्रधानमंत्री ने कहा कि ब्रिक्स शिखर सम्मेलन दुनिया की पांच प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के बीच डिजिटल अर्थव्यवस्था, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, आतंकवाद विरोधी तंत्र को लेकर सहयोग सहित प्रमुख क्षेत्रों में सहयोग को मजबूत बनाने पर केंद्रित होगा। ब्राजील के राष्ट्रपति के साथ द्विपक्षीय बैठक के बारे में उन्होंने कहा कि ब्राजील और भारत के बीच करीबी और आगे बढ़ने वाले द्विपक्षीय रिश्ते हैं जो रक्षा, कारोबार, अंतरिक्ष, ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में हैं।

यह भी पढ़ें :

जर्मनी के साथ 11 समझौतों पर हस्ताक्षर, जानिए भारत को कितना होगा फायदा

छठी बार ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए ब्राजील रवाना हुए पीएम मोदी

उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच बहुपक्षीय मंचों पर करीबी सहयोग हमारे सामरिक संबंधों के महत्वपूर्ण आयाम हैं। मोदी ने कहा, ‘‘ ब्रिक्स शिखर सम्मेलन अन्य ब्रिक्स देशों के साथ उपयोगी द्विपक्षीय चर्चा करने का अवसर प्रदान करता है।''

विदेश मंत्रालय के अनुसार, इस दौरान कारोबार और निवेश प्रोत्साहन एजेंसियों के बीच एमओयू पर भी हस्ताक्षर होने की संभावना है । ब्रिक्स पांच उभरती बड़ी अर्थव्यवस्थाओं वाले देशों -- ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका का समूह है।