बिश्केक। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई पर वैश्विक सम्मेलन का आह्वान करते हुए शुक्रवार को पाकिस्तान पर परोक्ष हमला बोला। इस दौरान उन्होंने कहा कि आतंकवाद प्रायोजित करने वाले, इसमें मदद देने वाले और इसका वित्तपोषण करने वाले देशों को जवाबदेह बनाया जाना चाहिए।

मोदी ने यहां शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सहयोग को मजबूत करने की एससीओ की भावना और उसके विचारों को रेखांकित किया।

इसे भी पढ़ें : SCO Summit: जिनपिंग से बोले PM मोदी- आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करे पाकिस्तान

उन्होंने कहा कि भारत आतंकवाद मुक्त समाज के पक्ष में है। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘मैं पिछले रविवार को श्रीलंका की अपनी यात्रा के दौरान सेंट एंथनी गिरजाघर गया जहां मैंने आतंकवाद का घिनौना चेहरा देखा। इस आतंकवाद ने हर जगह निर्दोष लोगों की जान ली है।'' मोदी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की मौजूदगी में कहा कि आतंकवाद से निपटने के लिए देशों को अपने संकीर्ण दायरे से बाहर आकर इसके खिलाफ एकजुट होना होगा। उन्होंने कहा, ‘‘आतंकवाद का प्रायोजन, उसकी मदद और उसका वित्त पोषण करने वाले देशों को जवाबदेह बनाया जाना चाहिए।''

प्रधानमंत्री ने एससीओ के सदस्य देशों से अपील की कि वे एससीओ क्षेत्रीय आतंकवाद रोधी संरचना के तहत सहयोग करें। उन्होंने एससीओ नेताओं से आतंकवाद पर एक वैश्विक सम्मेलन आयोजित करने की भी अपील की। मोदी ने कहा, ‘‘साहित्य एवं संस्कृति हमारे समाजों को एक सकारात्मक गतिविधि प्रदान करते हैं। वे खासकर हमारे समाज के युवाओं में चरमपंथ का प्रसार रोकते हैं।'' मोदी दो दिवसीय एससीओ सम्मेलन के लिए बृहस्पतिवार को बिश्केक पहुंचे। एससीओ चीन के नेतृत्व वाला आठ सदस्यीय आर्थिक एवं सुरक्षा समूह है जिसमें भारत और पाकिस्तान को 2017 में शामिल किया गया।

भारत देश में आतंकवादी हमलों के लिए पाकिस्तान को दोषी ठहराता आया है और उसने पाकिस्तान से कहा है कि वह अपनी जमीन से काम रहे आतंकवादी संगठनों को समर्थन देना बंद करे। पठानकोट में जनवरी 2016 में वायुसेना अड्डे पर हुए पाकिस्तान के एक आतंकवादी संगठन के हमले के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच कोई वार्ता नहीं चल रही है।

भारत का कहना है कि वार्ता और आतंकवाद साथ-साथ नहीं चल सकते। इस साल की शुरुआत में भारत और पाकिस्तान के संबंध उस समय और तनावपूर्ण हो गए थे जब पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद के एक आत्मघाती हमलावर ने कश्मीर के पुलवामा जिले में हमला किया था और इसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में जैश के सबसे बड़े प्रशिक्षण शिविर पर हमला करके आतंकवाद रोधी अभियान चलाया था। चीन ने भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव कम करने की कोशिश की थी।