नई दिल्ली : संसद के शीतकालीन सत्र का आज 18वां दिन है। आज राज्यसभा सवर्ण आरक्षण बिल पर बहस चल रही है। बीते मंगलवार को लंबी चर्चा के बाद हुई वोटिंग से इस बिल को लोकसभा में पारित कर दिया गया था। बिल के समर्थन में 323 वोट पड़े जबकि 3 सदस्यों ने बिल का विरोध किया।

इसी कड़ी में आज बीएसपी सांसद सतीश चंद्र मिश्रा ने राज्यसभा में कहा कि हमारी नेता बहन मायावती सदन के भीतर उच्च जातियों के गरीबों को आरक्षण का समर्थन कर चुकीं हैं। हमारी पार्टी भी आज इस बिल का समर्थन कर रही है।

मिश्रा ने कहा कि अगर आप संविधान में आर्थिक आरक्षण के लिए संशोधन ला रहे हैं तो जातिगत आरक्षण के लिए भी 50 फीसदी से ऊपर आरक्षण लेकर आइये।

इसे भी पढ़ें :

राज्यसभा में राजद सासंद ने दिखाया झुनझुना, मोदी सरकार पर बोला हमला

सवर्ण आरक्षण बिल पर राज्यसभा में बहस जारी, जानें- किसने क्या कहा

उन्होंने कहा कि आप क्यों, कैसे और किन परिस्थितियों में बिल ला रहे हैं, इस पर तो सवाल पूछे ही जाएंगे। सरकार ने प्रमोशन में आरक्षण के लिए क्या 4 साल में क्या किया है। मंत्री बताएं कि आबादी के हिसाब से पिछड़ों का आरक्षण कब से बढ़ा रहे हैं। मिश्रा ने कहा कि आपने आखिरी बॉल पर छक्क जरूर मारा है लेकिन वो बाउंड्री के पार नहीं जाना वाला है।

इससे पहले राजद सांसद मनोज कुमार झा ने इस बिल को लेकर कहा कि कैबिनेट से लेकर आखिरी पायदान तक जाति का असर पता चल जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर आप सुप्रीम कोर्ट की सीमा तोड़ रहे हैं तो ओबीसी को भी बढ़ाकर आरक्षण दीजिए।

उन्होंने झुनझुना दिखाते हुए कहा कि आमतौर पर ये बजता है लेकिन इस दौर में यह सरकार के पास है जो सिर्फ हिलता है बजता नहीं है।