बीजिंग : पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अपनी पहली चीन यात्रा पर शुक्रवार को पहुंचे। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ बातचीत के बाद समझा जाता है कि चीन पाकिस्तान को छह अरब डालर की सहायता उपलब्ध कराने पर सहमत हो गया है।

पाकिस्तान इस समय विदेशी मुद्रा की भारी आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहा है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की ओर से उसे राहत पैकेज देने के लिये कड़ी शर्तें रखी गई हैं। पाकिस्तान चाहता है कि मित्र देश उसकी मदद करें ताकि उसे आईएमएफ से कम से कम सहायता लेनी पड़े।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, इमरान खान अपनी चार दिन की पहली यात्रा पर शुक्रवार की सुबह यहां पहुंचे। चीन के ‘ग्रेट हॉल आफ पीपुल' में इमरान खान की चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात हुई। दोनों नेताओं के बीच अकेले में और प्रतिनिधिमंडल स्तर की बातचीत हुई।

जियो टीवी ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि पाकिस्तान को चीन से छह अरब डालर का आर्थिक पैकेज मिलने की उम्मीद है। इसके साथ डेढ अरब डालर के रिण की पेशकश और चीन- पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) के लिये तीन अरब डालर का अतिरिक्त पैकेज दिया जायेगा।

यह भी पढ़ें :

VIDEO : शपथ के दौरान ठीक से ऊर्दू नहीं पढ़ पाए इमरान खान, कई बार की गलतियां

इमरान खान के सत्ता संभालते ही अमेरिका ने दिया झटका, 30 करोड़ डॉलर की आर्थिक मदद पर रोक

रिपोर्ट में कहा गया है कि कर्ज और निवेश दोनों छह अरब डालर के पैकेज का हिस्सा होंगे। हालांकि, इस रिपोर्ट को लेकर चीन की ओर से आधिकारिक तौर पर अभी तक कुछ नहीं कहा गया है।

इमरान खान ने शी से कहा, ‘‘पाकिस्तान सरकार के समक्ष बहुत कठिन आर्थिक स्थिति बनी हुई है।'' उन्होंने कहा, ‘‘दुर्भाग्य से हमारा देश इस समय दो बड़े घाटे के साथ काफी कमजोर स्थिति से गुजर रहा है। पाकिस्तान को राजकोषीय घाटा और चालू खाते के घाटे का सामना करना पड़ रहा है।''