कोलंबो : श्रीलंका के पेट्रोलियम मंत्री अर्जुन रणतुंगा को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया गया। श्रीलंका में जारी राजनीतिक संकट के बीच हुई हिंसा के बाद यह पहली गिरफ्तारी है, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी।

श्रीलंका में राजनीतिक संकट रविवार को उस समय गहरा गया था, जब 54 वर्षीय रणतुंगा के एक अंगरक्षक ने नए प्रधानमंत्री महिन्दा राजपक्षे के समर्थकों पर गोलियां चला दी थी, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। रणतुंगा पूर्व प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के वफादार माने जाते हैं।

गंभीर रूप से घायल एक व्यक्ति ने दम तोड़ दिया और दो लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इस सिलसिले में सीलोन पेट्रोलियम कारपोरेशन (सीपीसी) परिसर से एक सुरक्षाकर्मी को गिरफ्तार किया गया था।

यह भी पढ़ें :

मैच फिक्सिंग मामले में श्रीलंका ने भारत से मांगी मदद

रणतुंगा व डीसिल्वा पर मैच फिक्सिंग का आरोप, श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष का खुलासा

पुलिस प्रवक्ता रूवान गुनासेकेरा ने बताया कि क्रिकेटर से राजनेता बने रणतुंगा को उनके परिसर में घटी घटना के बाद सोमवार को गिरफ्तार कर लिया गया, क्योंकि उनके सुरक्षा स्टाफ द्वारा चलायी गयी गोली से एक कर्मचारी की मौत हो गई थी।