लंदन : ब्रिटेन और अमेरिका सऊदी पत्रकार जमाल खाशोगी के लापता होने के बाद सऊदी अरब में होने वाले एक विशाल अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का बहिष्कार करने पर विचार कर रहे हैं।

बीबीसी के मुताबिक, सऊदी सरकार के आलोचक खाशोगी इस्तांबुल में सऊदी अरब के वाणिज्यदूतावास में प्रवेश करने के बाद दो अक्टूबर को लापता हो गए थे, जिससे रियाद और अंकारा के बीच तनाव बढ़ गया है।

इस्तांबुल में अधिकारियों का मानना है कि सऊदी एजेंटों ने खाशोगी की हत्या कर दी है। सऊदी अरब ने आरोपों को झूठा बताया है।

कूटनीतिक सूत्रों ने बीबीसी को बताया है कि अमेरिकी के वित्तमंत्री स्टीव मनुचिन और ब्रिटेन के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मंत्री लियाम फॉक्स सम्मेलन में शिरकत नहीं करेंगे। इस सम्मेलन की मेजबानी सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान करेंगे, ताकि वह अपने सुधारवादी एजेंडे का प्रसार कर सकें।

इसे भी पढ़ें :

सऊदी अरब ने लापता पत्रकार जांच के लिए संयुक्त टीम गठन का किया स्वागत

ब्रिटेन के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार विभाग के एक प्रवक्ता ने कहा कि फॉक्स की यात्रा पर अभी अंतिम मुहर नहीं लगी है।

बीबीसी ने कहा कि सऊदी एजेंटों द्वारा खाशोगी की हत्या की पुष्टि हो जाने की सूरत में निंदा के लिए एक संयुक्त बयान जारी करने को लेकर भी अमेरिका और यूरोपीय राजनयिकों के बीच चर्चा हुई।

-आईएएनएस