कोलकाता : आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा पश्चिम बंगाल में सात दिसंबर से शुरू हो रही रथ यात्रा के लिए पूरी तरह तैयार है। पार्टी का दावा है कि यह यात्रा प्रदेश की राजनीति में तस्वीर बदलने वाली साबित होगी। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह 'लोकतंत्र बचाओ रैली' के साथ इस अभियान की शुरुआत करेंगे।

अभियान की शुरुआत सात दिसंबर को कूचबिहार, नौ दिसंबर को दक्षिण 24 परगना के काकद्वीप और 14 दिसंबर को बीरभूम जिले में तारापीठ मंदिर से शुरू किये जाने का कार्यक्रम है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने बताया, "रथ यात्रा पश्चिम बंगाल की सियासत में तस्वीर बदलने वाली साबित होगी। इससे भाजपा के समर्थन में एक लहर की शुरुआत होगी जो आगामी आम चुनावों में निर्णायक भूमिका निभाएगी।"

पश्चिम बंगाल में भाजपा का यह सबसे बड़ा सियासी अभियान होगा, जिसमें दस हजार किलोमीटर की यात्रा की जाएगी। कुल 40 दिन तक चलने वाली यह रथ यात्रा पश्चिम बंगाल की सभी 42 लोकसभा सीटों से होकर गुजरेगी। इसके लिए तीन वातानुकूलित बसों को सजाकर तैयार किया गया है, जिन पर बंगाल में जन्मी जानी मानी हस्तियों नेताजी सुभाष चंद्र बोस और स्वामी विवेकानंद की तस्वीरें लगाई गई हैं।

यह भी पढ़ें :

शाह का नया शिगूफा, भाजपा सरकार के दबाव के कारण देश छोड़कर भागे ‘डिफॉल्टर’

ममता बनर्जी का बीजेपी पर तंज, कहा- भाजपा भगवान राम की नहीं बल्कि ‘‘रावण की उपासक’’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के अलावा पार्टी के शीर्ष नेता राजनाथ सिंह, अरुण जेटली, नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण, रमन सिंह, योगी आदित्यनाथ, उमा भारती और गिरिराज सिंह यात्रा में हिस्सा लेंगे। मोदी यहां लोक सभा चुनाव के मद्देनजर यहां चार रैलियों को संबोधित कर सकते हैं।