नौसेना भारतीय सेना का सामुद्रिक अंग है जिसकी स्थापना 1612 में ब्रिटिश शासन के दौरान की गई थी। मौजूदा समय में 55 हजार नौसेनिकों के लैस यह विश्व की पाँचवी सबसे बड़ी नौसेना है। भारतीय नौसेना प्रतिवर्ष 4 दिसंबर को मनाय जाता है। नौसेना दिवस को भारत की पाकिस्तान पर जीत के तौर पर मनाया जाता है।

नौसेना दिवस को 1971 में पाकिस्तान के साथ युद्ध में विजय के रूप में मनाया जाता है। आज ही के दिन भारतीय नौसेना ने पाकिस्तान के साथ युद्ध में उन्हें करारी शिकस्त दी थी। पाकिस्तानी सेना ने 3 दिसंबर 1971 को भारतीय हवाई क्षेत्रों पर हमला किया था। जिसके बाद भारत-पाकिस्तान के बीच 1971 की लड़ाई की शुरुआत हुए थी।

भारतीय नौसेना (फाइल फोटो)
भारतीय नौसेना (फाइल फोटो)

भारतीय नौसेना ने पाकिस्तान को जवाब देने के लिए ऑपरेशन ट्राइडेंट चलाया था। आपको बता दें कि 1971 की लड़ाई में ही पहली बार जहाज पर हमला करने वाली एंटी शिप मिसाइल का इस्तेमाल किया गया। भारतीय नौसेना के इस हमले में पाकिस्तान के कई जहाज बुरी तरह बर्बाद हो गए थे। पाकिस्तान और भारत के बीच यह लड़ाई सात दिनों तक चली थी।

इसे भी पढ़ेंः

कठुआ में भीड़ ने गोतस्करी के आरोप में ट्रक को फूंका, इलाके में तनाव

4 दिसंबर को ही इसलिए मनाते है नौसेना दिवस

भारतीय नौसेना ने आज ही के दिन यानी 4 दिसंबर 1971 को पाकिस्तान के खिलाफ ऑपरेशन ट्राइडेंट की शुरुआत की थी। भारतीय नौसेना ने पाकिस्तान के कराची नौसेनिक अड्डे पर हमला बोल कर उसे भारी नुकसान पहुंचाया था। तभी से हर साल 4 दिसंबर को भारतीय नौसेना द्वारा पाकिस्तान पर जीत के तौर पर मनाया जाता है।

भारतीय नौसेना इतिहास

भारतीय नौसेना भारतीय सेना का सामुद्रीक अंग है जिसकी स्थापना 1612 में की गई थी। ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपने जहाजों की सुरक्षा के लिए ईस्ट इंडिया कंपनी मरीन के रूप में सेना गठित की थी। बाद में जिसका नाम बदलकर रॉयल इंडियन नौसेना कर दिया गया। ब्रिटिश सरकार से आजादी के बाद 1950 में एक बार फिर से इसका नाम बदलकर इसे भारतीय नौसेना नाम दिया गया।