न्यूयॉर्क : रिसर्चर्स (शोधकर्ताओं) ने एक नया सॉफ्टवेयर सिस्टम विकसित किया है। यह स्मार्टफोन को ऑगमेंटेड रियलिटी (एआर) पोर्टल्स में बदल देता है, जिससे यूजर्स वर्चुअल बिल्डिंग ब्लॉक्स, फर्नीचर और अन्य ऑब्जेक्ट्स को रियल-वल्र्ड बैकड्रॉप में रखने में सक्षम होते हैं, और अपने हाथों का इस्तेमाल कर उन ऑब्जेक्ट्स को इधर-उधर कर सकता है, जैसे की वह वास्तव में वहां मौजूद हो।

ब्राउन विश्वविद्यालय के रिसर्चर्स ने कहा कि पोर्टल-बेल नाम का नया सिस्टम कलाकारों, डिजाइनरों, खेल डेवलपर्स और अन्य लोगों को एआर के साथ प्रयोग करने के लिए एक टूल के तौर पर काम कर सकता है।

कॉंसेप्ट फोटो
कॉंसेप्ट फोटो

ब्राउन में कंप्यूटर विज्ञान के सहायक प्रोफेसर जेफ हुआंग ने कहा, "हम कुछ ऐसा बनाना चाहते थे, जो एआर को पोर्टेबल बना दे, ताकि लोग उसे बिना किसी बल्की (भारी) हेडसेट्स के आसानी से कहीं भी ले जा सकें। हम यह भी चाहते थे कि लोग वर्चुअल दुनिया से प्राकृतिक रूप से अपने हाथों का इस्तेमाल करते हुए इंट्रैक्ट करें।"

क्या है ऑगमेंटेड रियलिटी

ऑगमेंटेड रियलिटी वर्चुअल रिएलिटी का ही दूसरा रूप है, इस तकनीक में आपके आसपास के वातावरण से मेल खाता हुआ एक कंप्यूटर जनित वातावरण तैयार किया जाता हैं। यानि आपके आसपास के दुनिया के साथ एक और आभासी दुनिया को जोडकर एक वर्चुअल सीन तैयार किया जाता है, जो देखने में वास्तविक लगता है यानि आप वास्तविक दुनिया और आभासी दुनिया बीच फर्क नहीं बता सकते हैं।

इसे भी पढ़ें :

भारत में लेनोवो ने किए ये तीन नए स्मार्टफोन लॉन्च, ये हैं इनकी खूबियां

आ गया Motorola का चार कैमरों वाला स्मार्टफोन, जानिए फीचर्स

आज के समय में ऑगमेंटेड रियलिटी का प्रयोग डिजिटल गेंमिग, शिक्षा, सैन्य प्रशिक्षण, इंजीनियरिंग डिजाइन, रोबोटिक्स, शॉपिंग, और चिकित्सा के क्षेञ में किया जा रहा है। इसकी कई सारी एप्लीकेशन प्ले स्टोर पर उपलब्ध है अगर आप प्लेस्टोर पर Augmented Reality सर्च करें तो आपको ढेर सारी एप्लीकेशन मिल जायेंगी।

कैसा लगेगा कि आपकी कंप्यूटर टेबल या घर के फर्श चलते-फिरते पर ढेर सारे डायनासोर आ जायें या एलियन और फिर और कुछ यह सब आज के समय में संभव है ऑगमेंटेड रियलिटी की वजह से, बस अपना फोन उठाईये और प्ले स्टोर से ये गेम्स डाउनलोड कीजिये और ऑगमेंटेड रियलिटी का मजा उठाइये