नई दिल्ली : सोशल नेटवर्किंग मंच ‘ हेलो’ ने भारत में स्थानीय लोगों को अपनी भाषा में भावनाओं को व्यक्त करने और एक-दूसरे जुड़ने की सुविधा देकर सशक्त बनाया है और यह क्षेत्रीय भाषा में जुड़ने का पसंदीदा मंच बन गया है। कंपनी के एक शीर्ष कार्यकारी ने बुधवार को इस बात की जानकारी दी।

हेलो के कंटेंट ऑपरेश्न हेड श्यामंगा बारू ने आईएएनएस को बताया, "हिंदी, तेलुगू, तमिल और मलयालम सहित 14 भाषाओं में उपलब्ध हेलो का मकसद वायरल कंटेंट, हस्तियों की खबरें और प्रमुख विषयों पर महत्वपूर्ण जानकारी साझा कर उपयोगकर्ताओं को बेहतर तरीके से व्यक्त करने में सशक्त बनाना है।"

उन्होंने कहा, "हेलो एक सोशल मीडिया मंच है, जो कि 14 भाषाओं में उपलब्ध है, जैसे कि हिंदी, तेलुगू, तमिल, मलयालम, मराठी, गुजराती, उड़िया, बंगाली, कन्नड़, पंजाबी, असमी, हरियाणवी, राजस्थानी और भोजपुरी।"

इसे भी पढ़ें :

सोशल मीडिया पर ‘गंदी’ बात की तो अब खैर नहीं, मोदी सरकार ने उठाया बड़ा कदम

बारू ने कहा, "हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि भारत में हेलो ने इस साल जून में लॉन्च होने के अपने पहले महीने के भीतर 10 लाख डाउनलोड के आंकड़े को पार कर लिया था और यह गूगल प्ले स्टोर पर निशुल्क एप वर्ग में लगातार शीर्ष पर बना हुआ है।"

चीनी कंटेंट दिग्गज बाइटडांस द्वारा लॉन्च हेलो का मकसद भारतीय के लिए सूचना और डिजिटल रूप से बंटी बड़ी आबादी के अंतर को पाटना है।

बारू ने कहा, "ट्रेंडिंग फीचर के जरिये हेलो देशी लोगों व देशी हस्तियों एवं क्षेत्रीय राजनेताओं के साथ ही अन्य प्रभावकारी शख्सियतों के बीच की खाई को पाटता है।"

यह एप क्षेत्र विशेष से जुड़ी हस्तियों के लिए क्षेत्रीय भाषा में अपने प्रशंसकों के साथ जुड़ने का एक पसंदीदा मंच बनकर उभरा है।

संगीतकार-गायक शंकर महादेवन और अभिनेत्री हंसिका मोटवानी हेलो पर प्रसिद्ध हस्ती हैं, जो अपने प्रशंसकों के लिए रोजाना तस्वीरें और वीडियो साझा करते हैं।

हेलो भारत में आईओएस और एंड्रायड दोनों पर उपलब्ध है।