वसंत पंचमी 2020: इस खास दिन देवी सरस्वती के लिए घर पर बनाएं खास भोग, ये है रेसिपी 

डिजाइन फोटो  - Sakshi Samachar

वसंत पंचमी का पर्व आने ही वाला है और हम सब जानते ही हैं कि इस दिन देवी सरस्वती की पूजा होती है। उन्हें पीले फूल और हल्दी चढ़ाई जाती है। इतना ही नहीं इस दिन सभी पीले रंग के कपड़े पहनने के साथ साथ पीले रंग के पकवान और मिठाइयां भी बनाते हैं। पीले रंग की मिठाई ही देवी सरस्वती को भोग लगाई जाती है।

वहीं ऐसा भी माना जाता है कि पीले खाद्य पदार्थों से मस्तिष्क की क्षमता बढ़ती है तथा याददाश्त में वृद्धि होती है। पीले पदार्थों में पाए जाने वाले विटामिन ई की उच्च मात्रा अल्जाइमर्स का खतरा कम करने का कार्य करती है।

स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होने के साथ ही यह पीला रंग ऋतुराज वसंत के सुहाने मौसम में रिश्ते में प्यार की मिठास घोलता है।

तो चलिये बनाते हैं आसान सी रेसिपी जो आप घर पर बनाकर देवी सरस्वती को भोग लगा सकती हैं।

केसरिया भात

सामग्री : 250 ग्राम बासमती चावल, 1 चम्मच दूध, 1 कप शक्कर, 1 चम्मच इलायची पाउडर, 4-5 लौंग व केसर के लच्छे, चुटकी भर मीठा पीला रंग, 1 चम्मच घी, पाव कप मेवों की कतरन।

विधि : सबसे पहले चावल को उबाल कर ठंडे करके अलग रख लें। अब एक पैन में घी गरम करके लौंग, इलायची एवं मीठा रंग डालें। इसके बाद उबले चावल डालकर दो-तीन मिनट तक चलाएं। फिर इसमें शक्कर डालकर मिलाएं। पूरी तरह शक्कर घुलने पर उसमें दूध में घुली केसर एवं कटे मेवे डालकर हिलाएं। तैयार गरमा-गरम लाजवाब वासंती भात का भोग देवी सरस्वती को लगाएं। फिर सबको प्रसाद बांटें।

सोशल मीडिया के सौजन्य से 

०००

केसरिया वासंती पेढ़ा

सामग्री : 250 ग्राम ताजा छैना, 50 ग्राम शक्कर, आधा चम्मच गुलाब जल, आधा कप पिस्ता कतरन, चुटकी भर मीठा पीला रंग, 4-5 केसर के लच्छे।

विधि : सबसे पहले छैने को एक थाली में लेकर हथेली से तब तक मसलें, जब तक वह अच्छा चिकना न हो जाए। अब एक नॉनस्टिक बर्तन में छैना और शक्कर डालकर धीमी आंच पर बार-बार चलाती रहें, तब तक कि मिश्रण गाढ़ा होकर कड़ाही न छोड़ने लगे।

अब मिश्रण को ठंडा होने के लिए रख दें। इसके बाद गुलाब जल में केसर व मीठा पीला रंग डालकर खूब घोंट लें। अब ठंडे मिश्रण के छोटे-छोटे गोले बनाकर हर गोले के बीच में केसर का टीका लगाएं। उस जगह को हल्के से उंगली से दबाएं और उस गड्‍ढे में पिस्ता कतरन भर कर मनभावन केसरिया वासंती पेढ़े का भोग लगाएं।

सोशल मीडिया के सौजन्य से 

०००

कद्दू का केसरिया हलवा

सामग्री :500 ग्राम केसरिया कद्दू, 100 ग्राम मावा, 125 ग्राम शक्कर, 1 चम्मच इलायची पाउडर, पाव कप कटे मेवे, 1 चम्मच घी।

विधि : सबसे पहले कद्दू को छीलकर किस लें। अब एक कड़ाही में घी गरम करके कद्दू को भूनें और उसमें मावा और शक्कर डालकर पका लें। अब मेवे व इलायची डाल दें। लजीज कद्दू का केसरिया हलवा गरमा-गरम परोसें।

सोशल मीडिया के सौजन्य से 

०००

स्वादिष्ट पनीर मालपुआ

सामग्री : 100 ग्राम कद्दूकस किया पनीर, 100 ग्राम कद्दूकस किया खोया, 50 ग्राम अरारोट,120 मिली दूध, टी स्पून इलायची पाउडर, तलने के लिए घी, 1 कप चीनी, 120 मिली पानी, 1/8 टी स्पून केसर, 7-8 बारीक कटे हुए बादाम

विधि : सबसे पहले पनीर, खोए, इलायची पाउडर और अरारोट को मिक्स कर लें। इसके बाद इसमें दूध मिलाएं और गाढ़ा मिश्रण तैयार कर लें। एक पैन में चीनी, पानी और केसर डालकर चाशनी तैयार करें और तब तक पकाएं जब तक यह घोल तार न छोड़ने लगे। पैन में घी को गर्म कर उसमें 1-1 चम्मच करके मिक्सचर को डालें और दोनों तरफ से हल्का भूरा रंग होने तक तलें।

सोशल मीडिया के सौजन्य से 

तलने के बाद इसे चाशनी में डिप करके छोड़ दें। थोड़ी देर बाद चाशनी में से मालपुआ को निकालकर सर्व करें। गार्निशिंग के लिए बादाम का इस्तेमाल करें।

०००

स्वादिष्ट राजभोग

सामग्री: 200 ग्राम गाय के दूध का पनीर 1 चम्‍मच मैदा 1/2 किलो शक्‍कर 2 कप पानी 1/4 चम्‍मच गोल्‍डन फूड कलर 1/8 चम्‍मच केसर 1 चम्‍मच इलायची पावडर 8 भिगोए और महीन कटे हुए बादाम 8 भिगोए और महीन कटे हुए पिस्‍ते

विधि : केसर को इलायची पाउडर, बादाम और पिस्‍ते के साथ मिक्‍स कर लें। गैस पर शक्‍कर और पानी चढ़ा दें, जिससे चाशनी तैयार हो जाए। फिर पनीर और मैदे को एक साथ मसल कर मुलायम कर लीजिये। अब छेने को 6-8 टुकड़ों में तोड़ कर रख लें। फिर एक टुकड़ा ले कर उसे हथेली पर रख कर थोड़ा दबाएं और उसके बीच में पिस्‍ते और बदाम वाला थोड़ा सा मिश्रण रख लें।

उसके बाद छेने को चारों ओर उठा कर बंद कर दें और अच्छी तरह दोंनों हाथों की सहायता से गोल कर लीजिये, तैयार गोले को प्लेट में रखिये। इसी तरह से सारे राजभोग के गोले बना कर तैयार कर लें। अब तैयार राजभोग को उबलती हुई चाशनी में 1-1 कर के डालिये, आंच तेज होनी चाहिये।

सोशल मीडिया के सौजन्य से 

बर्तन को ढककर राजभोग को पकाइये, जिससे वह उसमें अच्‍छी तरह से चाशनी समा जाए। 15-20 मिनट तक पकाएं और 5-5 मिनट में हल्‍का पानी मिलाती जाएं, जिससे चाशनी बिल्‍कुल गाढ़ी ना हो जाए।

इसे भी पढ़ें :

मकर संक्रांति पर बनाएं तिल की ये पांच मिठाई, हर कोई करेगा आपकी तारीफ

जानें मकर संक्रांति पर क्यों बनाते हैं खिचड़ी, इसका महत्व व स्वादिष्ट खिचड़ी की रेसिपी

उसके बाद गैस बंद कर दें। जब राजभोग ठंडे हो जाय तब 1/4 चम्‍मच फूड कलर पानी में घोल कर चाशनी में डालकर मिक्स कर दीजिये। आपके राजभोग सर्व करने के लिये तैयार हैं।

Advertisement
Back to Top