हैदराबाद : हम सभी जानते हैं कि अखरोट एक मेवा ही नहीं बल्कि एक उत्तम औषधि भी है। यह हमारे शरीर के कई रोग भी दूर करता है। इसके सेवन से स्मरण शक्ति बढ़ती है, आंखों की ज्योति बढ़ती है तथा खून की लाली भी बढ़ती है। बच्चों की बुद्धि के विकास के लिए तो यह एक उत्तम दवा के रूप में साबित हुआ है। इसके सेवन से मंदबुद्धि बच्चों की बुद्धि भी तीव्र होने लगती है। आइए जानते हैं इसके क्या-क्या है फायदे।

- अखरोट में ओमेगा-3 मौजूद होता है। इसमें उपस्थित फैटी एसिड न केवल दिल, बल्कि हमारे ब्रेन के लिए भी काफी लाभदायक होता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर चीजें खाने से स्मरणशक्ति में सुधार आने के साथ ही आपकी तंत्रिका प्रणाली भी ठीक तरह से काम करती है।

- अखरोट में एंटीऑक्सीडेंट गुण होता है। एंटीऑक्सीडेंट स्वास्थ्य के साथ-साथ त्वचा को भी पोषण देते हैं। एंटीऑक्सीडेंट त्वचा से गंदगी दूर कर आपको चमकदार त्वचा देता है।

- अखरोट में पोटैशियम, ओमेगा-3, ओमेगा-6 और ओमेगा-9 होता है। ये सभी पोषक तत्व बालों के लिए काफी जरूरी होते हैं। नियमित रूप से बालों में अखरोट तेल लगाने से बाल लंबे और मजबूत होते हैं।

- अखरोट हड्डियों को मजबूत करने का भी काम करता है। अखरोट में अल्फा-लिनोलेनिक एसिड होता है, जो हड्डियों को मजबूत करने में काफी मदद करता है।

- अखरोट में भरपूर मात्रा में प्रोटीन और कैलोरी होती है जो वजन कम करने में अहम भूमिका निभाता है। इसके नियमित उपयोग से वजन नियंत्रित रहता है।

- रिसर्च में ये बात सामने आई है कि जो लोग दो से तीन अखरोट रोजाना सेवन करता है। उसे टाइप-2 डायबिटीज का खतरा कम हो जाता है।

- पेट सही रखने और कब्ज से बचने के लिए फाइबर युक्त चीजें खानी जरूरी है ऐसे में अखरोट पाचन प्रणाली को दुरुस्त रखने के लिए रामबाण साबित हो सकता है।

- अखरोट में उपस्थित मेलाटोनिन तनाव से राहत दिलाने का भी काम करता है। ऐसे में तनाव दूर कर बेहतर नींद के लिए हमें अखरोट का नियमित सेवन करना चाहिए। बच्चों को रात्रि में अखरोट खिलाने से नींद अच्छी आती है तथा वे बिस्तर में पेशाब भी नहीं करेंगे।

- अखरोट के वृक्ष की पत्तियां मसल कर सूंघने से जुकाम खत्म हो जाता है। अखरोट के छिलके की राख दांतों पर रगड़ने से दांतों में चमक बढ़ती है व खून मवाद आना भी बंद होता है। मिरगी रोग में पत्तियां सुंघाने से लाभ होता है। रोगी जल्दी होश में आ जाता है।