हम सब जानते हैं कि धनिया पंजीरी का प्रसाद जन्माष्टमी के दिन प्रमुख रूप से बनाया जाता है और कृष्ण भगवान को भोग में लगाई जाती है। वैसे आप धनिया की पंजीरी कभी भी बनाकर खा सकते हैं ये बहुत ही स्वादिष्ट और पौष्टिक होती है।

धनिया पंजीरी को आप किसी कंटेनर में भर कर रख कर 2-3 महिने तक आराम से खाने के लिए उपयोग कर सकते हैं। ये आपके स्वास्थ्य के लिए भी अच्छी होती है।

सामग्री ....

धनिया पाउडर- 1 कप

पाउडर चीनी - 1 कप

मखाने - 1 कप

नारियल - कप (कद्दूकस किया हुआ)

देशी घी - कप

काजू - 8-10

बादाम - 10 - 10

चिरौंजी - 2 टेबल स्पून

विधि ...

सबसे पहले मखाने को काट कर चार टुकड़े कर लीजिये। काजू और बादाम छोटे-छोटे काट लीजिये। इलायची को छील कर पाउडर बना लीजिए।

कड़ाही में घी डाल कर इसमें मखाने के टुकड़े डाल कर लगातार चलाते हुए भून लीजिए। मखानों के भून जाने पर इन्हें प्याले में निकाल लीजिए।

कड़ाही में कद्दूकस किया हुआ नारियल डालकर मध्यम आंच पर 1 से 1.5 मिनट तक लगातार चलाते हुए भून लीजिए हल्का सा भून जाने पर इसे प्याले में निकाल लीजिए।

काजू ओर बादाम को भी कड़ाही में डाल कर 1 मिनट के लिए भून लीजिए। काजू बादाम के भून जाने पर इन्हें भी प्याले में निकाल लीजिए। कड़ाही में घी डालिये और बारीक पीसे धनिये को अच्छी सुगन्ध आने तक भून लीजिये।

धनिया भून जाने पर इसे प्याले में निकाल लीजिए। धनिया भूनने में लगभग 3 मिनट का समय लग जाता है। भूने धनिया को बड़े प्याले में निकाल लीजिए इसमें पाउडर चीनी, भूना नारियल, भूने काजू-बादाम, चिरौंजी और इलायची पाउडर डालकर अच्छे से मिक्स कर लीजिए।

मखाने को भी इस मिश्रण में डालकर अच्छे से मिक्स कर लीजिए।धनिया पंजीरी बनकर तैयार है इसे प्लेट में निकाल लीजिए।

इसे भी पढ़ें :

कृष्ण जन्मभूमि में ऐसे मनाई जाती है जन्माष्टमी, कान्हा की भक्ति में रंग जाता है मथुरा-वृंदावन

अब लगाइये लड्डू गोपाल को भोग

धनिया की पंजीरी तैयार है। ये धनिया की पंजीरी आप अपने लड्डू गोपाल को भोग लगाइये और आप खाइये। धनिया पंजीरी को पूरी तरह से ठंडा हो जाने पर किसी कंटेनर में भर कर रख दीजिए और 2-3 महिने तक खाते रहें।

सुझाव

साबुत धनिया लेकर पहले उसे भून लेते हैं और बाद में बारीक पीस कर पंजीरी बना सकते हैं।

ड्राय फ्रूट आप अपनी पसंद अनुसार जो लेना चाहें ले सकते हैं।