हैदराबाद : देश में रूह अफ्जा किसी कारणवस नहीं मिल पाने से रोजेदारों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बेहद लोकप्रिय पेय पदार्थ रूह अफ्जा की किल्लत ने लोगों में कौतुहल पैदा कर दिया है कि आखिर ऐसी क्या बात है कि इसे इस कदर खोजा जा रहा है और खास तौर पर रमजान के महीने में।

दरअसल, रूह अफ्जा केवल शर्बत नहीं बल्कि ये एक औषधिय गुणों से भी भरा होता है। गर्मियों में रोजेदारों के लिए ये किसी अमृत से कम नहीं होता। आइए जानते हैं कि इसके पीछे क्या वजह है।

मिलती है एनर्जी:

रूह अफ्जा में पानी, दूध और कई पौष्टिक चीजें मिला कर इसे और न्यूट्रीशन से भरपूर बना दिया जाता है। साथ ही गुलाब की खुशबू इसके जायके को और बढ़ा देती है। इससे रूह अफजा पीनेवाले को मानसिक ठंडक भी मिलती है। साथ ही एनर्जी भी मिलती है।

रूह अफजा में जड़ी बूटिययां, फल, सब्जियां, खाने योग्य फूल आदि का मिश्रण शामिल होता है। साथ ही इसमें चीनी की मात्रा भी ठीक ठाक होती है। एक गिलास रूह अफजा में 100 फीसदी कार्बोहाइड्रेट मौजूद होता है, जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है।

पाचन में सुधार :

रूह अफ्जा में मौजूद जड़ी बूटियां और फलों का मिश्रण पाचन क्रिया को सुधारने और तमाम समस्याओं को दूर रखने में मददगार साबित होता है।

शरीर को दे ठंडक :

गर्मी की तपिश शरीर को नुकसान पहुंचा सकती है, और लू लगने का खतरा बढ़ सकता है। लू के खतरे से शरीर को बचाने के लिए शरीर को हमेशा पानी से भरपूर और ठंडा रखना जरूरी होता है। इसका बेहतरीन समाधान रूह अफ्जा में मिलता है। एक गिलास रूह अफजा आपको हमेशा तरोताजा बनाए रखता है।

इसे भी पढ़ें :

रमजान में बाजार से गायब हुआ रूह अफ्जा, हमदर्द पाकिस्तान ने की मदद की पेशकश

दिल को रखे स्वस्थ :

रूह अफ्जा के सेवन से दिल भी खुश रहता है। रक्त संचार में बाधा उत्पन्न नहीं होती और इसे समान रूप से बनाए रखने में भी रूह अफ्जा की भूमिका होती है। इससे दिल की काम करने की क्षमता भी बढ़ जाती है।

वहीं विशेषज्ञों का कहना है कि रूह अफ्जा का संतुलित सेवन बच्चों और युवाओं की सेहत के लिए तो फायदेमंद है ही, बुजुर्गों को भी इसका लाभ जरूर उठाते रहना चाहिए। हालांकि, चीनी होने के चलते डायबिटीज के रोगियों को इससे परहेज करना चाहिए।