नई दिल्लीः क्रिसमस का त्योहार नजदीक है और उसके कुछ ही दिन बाद सभी लोग नए साल की तैयारियों में लग जाएंगे। लेकिन त्योहार का मतलब यह नहीं है कि आप खाने-खिलाने में इतनी मसरूफ हो जाएं कि सेहत को नजरअंदाज कर दें। त्योहार और खुशियों को दोगुना करने के लिए सबको सेहत और स्वाद का तालमेल बैठाना होगा।

साल के अंत में क्रिसमस का त्योहार आने के मतलब है मौज-मस्ती और साथ में ढेर सारे पकवान। स्वादिष्ट खाने और खिलाने के इस मौके पर मौज-मौज में कभी आप ज्यादा खा जाते हैं तो कई बार कुछ ऐसा जुबान को भाता है, जो आपकी सेहत के मिजाज को बिगाड़ देता है। नतीजा, त्योहार की खुमारी तो उतर जाती है, लेकिन अफसोस रह जाता है।

इस अफसोस से बचने और डॉक्टरों के चक्कर काटने से अच्छा है कि आप अपने खाने में कुछ ऐसा शामिल करें जिससे की मुंह का स्वाद भी बना रहे और आपके स्वास्थ्य पर भी कोई बुरा प्रभाव भी ना पड़े। जिससे की आपके त्योहार की खुशियां और भी अधिक हो जाए। इसके के लिए जरूरी है कि आप इन नियमों का पालन करें।

शक्कर वाले मीठे से करें परहेज

क्रिसमस का त्योहार हो और मिठाई और केक ना हो ऐसा तो हो नहीं सकता। त्योहार पर हम सभी पेट भर मिठाई और स्वादिष्ट केक का जी भरकर आनंद लेते हैं। लेकिन भूल जाते है कि उसमें इस्तेमाल होने वाली शक्कर आपकी सेहत बिगाड़ सकती है।

अगर आप चाहते है कि क्रिसमस पर आपकी सेहत बनी रहे तो शक्कर वाले केक और मिठाई से दूरी बनाए। आप इसके लिए घर पर ही मिठाई और केक बनाइए ताकि नुकसान वाली सफेद और ब्राउन शुगर आपके पकवानों से दूर रहे।

इसे भी पढ़ेंः

अब खाने के रैसिपी खोजना हुआ और आसान, कुकपैड ने लॉन्च किया हिंदी ऐप

इसकी जगह आप अपनी डिश में मिठास लाने के लिए ब्राउन राइस सिरप, स्टीविया, शहद, गुड़, खजूर आदि को इस्तेमाल कर सकते हैं। आप मीठा भी खा पाएंगे और वह नुकसान भी नहीं करेगा।

क्रिसमस पर पकाएं कुछ हेल्दी

क्रिसमस पर आपके पास यूं तो मीठा बनाने के लिए ढेरों विकल्प हैं, पर इस बार क्रिसमस पर कुछ ऐसा पकाइए, जो न सिर्फ मीठा हो, बल्कि उसमें और भी कई पोषक तत्व मौजूद हों। इससे आपका क्रिसमस में स्वाद के साथ पोषण का तड़का भी लग जाएगा।

लपसी

बेसन, देसी घी, गुड़ आदि से तैयार होने वाली लपसी न सिर्फ स्वाद में सोंधी रहेगी, बल्कि प्रोटीन, वसा, आयरन की खूबियों से भी सजी होगी।

खुद को रखें डीटॉक्स

शरीर को डीटॉक्स करने के लिए तीन चीजों की जरूरत होती है, पहली पर्याप्त मात्रा में पानी मतलब हाइड्रेशन, दूसरा एंटी-ऑक्सीडेंट और तीसरा फाइबर। हाइड्रेशन के लिए कम से कम आठ गिलास पानी पिएं। आप तरल खुराक के तौर पर जलजीरा, नींबू पानी आदि भी ले सकते हैं। खट्टे फल, हरी सब्जियों से आपको एंटीऑक्सीडेंट व फाइबर अच्छी मात्रा में मिल जाएंगे।