बिग बॉस शुरू होकर 57 दिन हो चुके हैं पर अब तक दर्शकों में यह शो अपनी पैठ नहीं बना पाया है। दर्शक तो कहने लगे हैं कि यह शो पूरी तरह फ्लॉप है।

बिग बॉस के बारे में तो यह भी कहा जा रहा है कि इस शो के नाम बड़े और दर्शन छोटे ही साबित हो रहे हैं। दर्शकों को कोई कंटेस्टेंट लुभा नहीं पा रहा है, वहीं टास्क भी पहले सीजन के ही रिपीट होने से भी सब बोर हो रहे हैं।

कंटेस्टेंट भी शो में गेम को टीम के साथ नहीं बल्कि अकेले ही खेलना चाह रहे हैं इससे शो में किसी का इंट्रेस्ट नहीं दिख रहा है। दर्शकों को बिग बॉस में किसी तरह का कोई मनोरंजन नहीं दिखाई दे रहा है।

कंटेस्टेंट को छोड़ भी दें तो बिग बॉस की स्क्रिप्ट भी बोरिंग ही होती है। टास्क में भी कोई नयापन नहीं है और कंटेस्टेंट भी कुछ खास परफॉर्म नहीं कर रहे हैं। कई बार तो किसी टास्क को कंटेस्टेंट के खेलने के बाद रद्द कर दिया जा रहा है जिससे दर्शकों को बुरा भी लग रहा है।

इसे भी पढ़ें :

कुछ इस तरह मानी पुनर्नवी ने राहुल के साथ रिश्ते की बात, वितिका ने पूछा था सवाल

बिग बॉस ने दिया टास्क तो वितिका बनी टीचर, गॉसिपालॉजी पर दिया लेक्चर

कहा यह भी जा रहा है कि शो की एडिटिंग भी सही तरीके से नहीं हो रही है। माना यह भी जा रहा है कि कुछ कंटेस्टेंट को ज्यादा फुटेज दिया जा रहा है और कुछ को बिलकुल भाव ही नहीं दिया जा रहा, ऐसा करना भी दर्शकों को अच्छा नहीं लग रहा।

तमन्ना सिंहाद्री व शिल्पा चक्रवर्ती 
तमन्ना सिंहाद्री व शिल्पा चक्रवर्ती 

एलिमिनेशन की खबरें भी पहले से ही सोशल मीडिया पर लीक हो रही है तो किसी तरह का कोई सस्पेंस शो में नहीं है इस वजह से भी इससे दर्शक बोर होने लगे हैं। अब तो सबको यह लगने लगा है कि आखिर यह शो कब खत्म होगा क्योंकि इसमें अब कुछ भी नयापन नहीं है।

इसे भी पढ़ें :

शिवज्योति की आंखों में आंसू क्यों आ गए, बाबा ने आखिर ऐसा क्या कह दिया

नागार्जुन की होस्टिंग भी शो को मनोरंजक बनाने में नाकाम रही है। बिग बॉस को मनोरंजक बनाने के लिए अब तक दो-दो वाइल्ड कार्ड एंट्री भी दी गई जिसके तहत तमन्ना सिंहाद्री और शिल्पा चक्रवर्ती को शो में लाया गया पर कुछ फायदा नहीं हुआ।

अब देखना यह है कि कैसे यह शो चलता है और शो को मनोरंजक बनाने के लिए कुछ नया, कुछ खास किया भी जाता है या नहीं। क्या इसके लिए किसी की रीएंट्री करवाई जाएगी।

इस बारे में कुछ पता तो नहीं चला है पर अगर शो को बचाना है बंद होने से तो कुछ नया करना ही पड़ेगा। देखना यह है कि आखिर क्या किया जाता है।