कुछ कलाकारों का नाम जुबां पर आते ही जैसे उनकी शख्सियत आंखों के सामने छा जाती है। ऐसी ही अभिनेत्री है शबाना आजमी जो अपने संजीदा अभिनय से दर्शकों के दिलों पर राज करती है।

शबाना आजमी एक ऐसी अभिनेत्री हैं जिन्‍होंने हर किरदार को मन से जीया और रूपहले पर्दे पर अपनी एक अमिट छाप छोड़ी। अभिनय के साथ वे सामाजिक कार्यों में भी सक्रिय रही हैं।

शबाना का जन्‍म 18 सितंबर 1950 को मशहूर लेखक और कवि कैफी आजमी और थिएटर अभिनेत्री शौकत आजमी के घर हुआ था। शबाना को अभिनय कला मां से विरासत में मिली थी।

बॉलीवुड में कदम रखते ही शबाना ने दर्शकों के दिलों में अपनी जगह बना ली। अपनी पहली फिल्म के लिए ही उन्हें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से नवाजा गया।

फिल्म मंडी में शबाना आजमी 
फिल्म मंडी में शबाना आजमी 

69 साल की शबाना आजमी ने अपने दमदार अभिनय का लोहा मनवाया। उन्होंने हर किस्म के किरदार शामिल हैं जिसमें लेस्बियन जैसे किरदार को भी करने से भी उन्हें कभी कोई हर्ज नहीं रहा।

आइये यहां जानते हैं शबाना आजमी से जुड़े कुछ खास रोचक किस्से ....

- शबाना ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा मुंबई के क्वीन मैरी स्कूल से की। इसके बाद उन्होंने सैंट जेविएर्स कॉलेज से मनोविज्ञान में ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त की। इसके अलावा, उन्होंने पुणे के फिल्म एंड टेलीविज़न इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया से एक्टिंग का कोर्स किया।

- शबाना आजमी को शशि कपूर बहुत पसंद थे। शशि के पिता पृथ्वीराज कपूर शबाना के पड़ोसी थे। इस दौरान, शशि जब उनके घर गए, तब शबाना ने उनसे एक फोटो पर उनका ऑटोग्राफ भी लिया था।

आगे चलकर, साल 1976 में दोनों ने फकीरा फिल्म में एक साथ काम भी किया।

- 1973 में अपने करियर की शुरुआत करने वाली शबाना ने आगे चलकर लगभग चार दशकों तक बॉलीवुड के परदे पर राज किया।

अमिताभ बच्चन के साथ शबाना आजमी 
अमिताभ बच्चन के साथ शबाना आजमी 

- बॉलीवुड में कदम रखते ही जीता राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार

आजमी को जया भादुड़ी से एक्टिंग करने की प्रेरणा मिली थी। उन्होंने जया भादुड़ी को फिल्म ‘सुमन’ में अभिनय करते हुए देखा और उसी समय उन्होंने एक्टिंग की दुनिया में कदम रखने का फैसला कर लिया।

-शबाना ने वर्ष 1973 में फिल्‍म 'अंकुर' से अपने अभिनय कला की शुरूआत की थी। इस फिल्‍म ने उन्‍हें एक विशेष पहचान दिलाई।

फिल्‍म 'अंकुर' के लिए उन्‍हें सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेत्री का राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार मिला। अपनी पहली फिल्‍म के लिए राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार पाने के बाद इन्‍होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

- शबाना आजमी की एक्टिंग इतनी दमदार थी कि उन्हें लगातार तीन साल तक नेशनल अवार्ड से नवाजा गया। उन्होंने साल 1983 से 1985 तक निरंतर यह पुरस्कार जीते। इन फिल्मों के नाम 'अर्थ', 'खंडहर' और 'पार' है।

नंदिता दास के साथ शबाना आजमी 
नंदिता दास के साथ शबाना आजमी 

- साल 1999 में भी एक बार फिर उन्होंने यह अवॉर्ड अपने नाम किया। उन्हें 'गॉडमदर' फिल्म के लिए 'बेस्ट एक्ट्रेस नेशनल अवॉर्ड' मिला था।

-शबाना ने अपने करियर में हर तरह के रोल निभाए। फिल्म फायर में तो लेस्बियन का किरदार भी निभाया था। इस फिल्म में उन्होंने अपनी को-एक्ट्रेस नंदिता दास को किस भी किया था।

इसे भी पढ़ें :

कभी किया था अमिताभ संग काम पर आज है फिल्मों से दूर, विदेश में जी रही है लग्जरियस लाइफ

खनकती आवाज की मलिका है आशा भोसले, जानें उनसे जुड़ी कुछ रोचक बातें

- शबाना ने हमेशा अपने किरदार को लेकर एक्सपेरिमेंट्स किये। अपने आपको हमेशा अपने किरदार के सांचे में इस प्रकार ढाल दिया कि उनकी एक्टिंग का हर कोई दीवाना बन गया।

- शादीशुदा जावेद अख्तर पर आ गया था शबाना का दिल। जावेद उनके घर आया-जाया करते थे कैफी आजमी के पास। दोनों में प्यार हुआ। जावेद ने हनी को तलाक़ दे दिया और 9 दिसम्बर, 1984 में दोनों ने शादी कर ली।

शबाना आजमी 
शबाना आजमी 

- इससे पहले शबाना आजमी का नाम शेखर कपूर के साथ जुड़ चुका था। उस समय उनके और शेखर के बीच सात साल तक अफेयर होने की खबरें भी बहुत तेज थी। इतना ही नहीं बल्कि उनकी उनसे सगाई होने की बात भी सुर्खियों में आई थी।

- इस उम्र में भी शबाना हिंदी सिनेमा में अपनी एक्टिंग का जौहर दिखा रही हैं। हाल के वर्षों में आई फिल्म 'नीरजा' में उन्होंने सोनम कपूर की माँ का किरदार निभाया। इस किरदार को लोगों ने बहुत पसंद किया।

- शबाना आजमी ने 'भावना', 'अमर अकबर एंथोनी', 'खंडहर', 'पार', 'गॉडमदर', 'स्‍वामी', 'हम पांच', 'परवरिश' जैसी हिट फिल्‍मों में काम किया।

पति जावेद अख्तर के साथ शबाना आजमी 
पति जावेद अख्तर के साथ शबाना आजमी 

- शबाना को चार बार फिल्‍मफेयर अवार्ड से सम्‍मानित किया जा चुका है। वहीं वर्ष 1988 में उन्‍हें पद्मश्री पुरस्‍कार से भी सम्‍मानित किया जा चुका है।

- लगभग 120 हिंदी और बांग्‍ला फिल्‍मों में काम कर चुकी अभिनेत्री शबाना आजमी के अभिनय के कायल लोग आज भी है।

शबाना आजमी की ख़ास बात यही है कि वह हर किरदार को बेहद नेचुरल तरीके से करती हैं। उनकी एक्टिंग गजब होती है। वे हर किरदार को जैसे जीती हैं। तभी तो हिंदी सिनेमा के परदे पर आज भी लोगों को अपनी एक्टिंग का दीवाना बनाए हुए हैं।