बिग बॉस शो जनता के वोटों के हिसाब से ही चलता है या फिर निर्मातागण इसमें हस्तक्षेप करते हैं। फिर आखिर जनता का वोट मांगा ही क्यों जाता है, जैसे कई सारे प्रश्न सोशल मीडिया पर काफी चल रहे हैं। क्योंकि इस सप्ताह एलिमिनेशन प्रॉसेस में कई तरह के विवाद चल रहे थे।

चौथे सप्ताह के एलिमिनेशन के लिए बाबा भास्कर, श्रीमुखी, रविकृष्णा, वरुण संदेश, राहुल, रोहिणी व शिव ज्योति नॉमिनेट हुए। वहीं रोहिणी को तो यूं ही नॉमिनेट कर लिया गया।

नॉमिनेशन प्रक्रिया के बारे में कहीं बात नहीं करने का आदेश दिया गया था और इसी नियम का उल्लंघन करने की वजह से रोहिणी को बिग बॉस ने नॉमिनेट कर दिया। श्रीमुखी ने एनालिसिस करके कह दिया कि रोहिणी ही इस बार एलिमिनेट होगी।

सुनकर भले ही रोहिणी को बुरा लगा पर आखिर में यही हुआ। रोहिणी का एलिमिनेशन बिलकुल तय माना जा रहा था। वोटिंग के विषय पर ध्यान दें तो पता चलता है कि राहुल, शिवज्योति और रोहिणी को बराबर वोट मिले।

इसे भी पढ़ें :

बिग बॉस ने कैप्टेंसी के लिए दिया नया टास्क, देखें कौन बनता है नया कैप्टेन

वहीं पुनर्नवी के व्यवहार ने काफी हंगामा मचाया तो राहुल को क्यों नहीं निकाला गया इस पर भी विवाद हुआ। बचे हुए कंटेस्टेंट में से शिवज्योति को कम वोट मिले। फिर भी उसे सेव करके रोहिणी को एलिमिनेट किया गया।

इसकी वजह यह बताई गई कि रोहिणी के बारे में कहीं से भी कुछ सकारात्मक सुनने को नहीं मिला हर तरफ से उसके बारे में नकारात्मक ही सुनने को मिला और यही वजह उसके एलिमिनेशन की भी बताई जा रही है।