मुंबई : अपने सशक्त अभिनय से बॉलीवुड में अहम स्थान बना चुकीं अभिनेत्री विद्या बालन का कहना है कि एक समय वह भी आएगा, जब महिला किरदार अपने दम पर बॉक्स ऑफिस पर भीड़ जमा करने में सफल होगी।

बॉलीवुड में ज्यादातर पुरुष सुपरस्टार ही ऐसे होते हैं, जो किसी फिल्म के लिए भीड़ को एकत्र करते हैं। प्राथमिक तौर पर उनके नाम ही फिल्म के ब्लॉकबस्टर व्यापार को सुनिश्चित करते हैं।

वहीं दूसरी ओर महिला प्रधान फिल्में, जो आमतौर पर बॉक्स ऑफिस पर खराब प्रदर्शन करती हैं, उन्हें मध्यम से कम बजट सेट-अप में निर्मित की जाती हैं, ताकि वे जल्द से जल्द मुनाफा कमा सकें और कम से कम फिल्म को हिट स्टेटस पर पहुंचा सके। लेकिन विद्या का मानना है कि एक दिन ऐसा भी आएगा, जब यह परिदृश्य बदलेगा और महिला प्रधान फिल्में अपने दम पर व्यापार करने में सफल होंगी।

ये भी पढ़ें:

इस उम्र में ही ज्यादा मजा उठातीं हैं : विद्या बालन

विद्या बालन ने लोगों को समाज व देश में बदलाव के लिए दी यह सलाह

विद्या बालन ने अपनी फिल्म 'मिशन मंगल' के प्रोमोशनल इवेंट के दौरान कहा कि उनको उम्मीद है कि परिस्थिति में बदलाव आएगा। फिल्म में अक्षय कुमार सहित सोनाक्षी सिन्हा, तापसी पन्नू, कीर्ति कुल्हारी और नित्या मेनन भी प्रमुख भूमिकाओं में हैं।

महिला प्रधान फिल्मों को बॉक्स ऑफिस पर बड़ी ओपनिंग क्यों नहीं मिलती, इस प्रश्न के जवाब में विद्या ने कहा, "इस बात में कोई दो राय नहीं है कि इस फिल्म में देश के सबसे बड़े सितारों में से एक स्टार अक्षय कुमार हैं। जब आप किसी फिल्म के व्यवसाय के बारे में बात करते हैं, तो आप पुरुष अभिनेता को लेकर बात करते हैं। लेकिन चीजें बदल रही हैं, हम (महिला किरदार) फिल्मों में सुर्खियों में रहे हैं, हमारी फिल्में अच्छा कर रही हैं। उम्मीद है कि कुछ सालों में यह बदलाव भी हो जाएगा। लेकिन आज तक, जब आप किसी फिल्म के व्यवसाय के बारे में बात करते हैं, तो आप यही कहते हैं कि अक्षय कुमार की फिल्म ने इतनी कमाई की है।"

निर्देशक जगन शक्ति की फिल्म 'मिशन मंगल' गुरुवार को अपने ओपनिंग वाले दिन 29.16 करोड़ रुपये की कमाई करने में सफल रही, लेकिन शुक्रवार को यह आंकड़े घटकर 17.28 करोड़ रुपये रह गए।