बिग बॉस चौथे सप्ताह में प्रवेश कर चुका है। इस एपिसोड में बिग बॉस ने घर के सदस्यों को कैप्टेंसी का टास्क दिया। घर के सदस्यों को दो ग्रुप में बांटा गया पर इन ग्रुप के लोगों के बीच एकता नहीं देखी गई।

सब अकेले ही टास्क को पूरा करना चाह रहे थे। किसी में टीम भावना नहीं देखी गई। टास्क में जीतने पर राहुल को पुनर्नवी ने अपने हाथ से खिलाया।

श्रीमुखी ने राहुल को खरी-खोटी सुनाई। कहा कि मैंने तुम पर भरोसा करके अपनी टीम में लिया। मुझे धोखा दोगे तो मैं तुमसे कभी बात नहीं करूंगी। तब राहुल ने श्रीमुखी के पैर छुए और उसके पास के अंडे ले लिये। तब श्रीमुखी का चेहरा सफेद पड़ गया।

टास्क की शुरुआत में लग रहा था कि यह टास्क लड़कियां जीतेगी पर बाद में दांव उल्टा पड़ गया और लड़कों ने टास्क जीत लिया।

इसके बाद बिग बॉस ने कैप्टेंसी के टास्क के तौर पर मैं ही राजा-मैं ही मंत्री नामक गेम खेलने को कहा। इसके लिए घर के सदस्यों को विक्रमपुरी (रेड टीम) व सिंहपुरी (ब्लू टीम) में विभाजित किया।

रेड टीम की सेनापति के तौर पर श्रीमुखी को चुना गया तो ब्लू टीम की सेनापति बनी हिमजा। रेड टीम की सेनापति श्रीमुखी ने अपनी सेना में अली, राहुल, महेश व आशु रेड्डी को लिया। तो ब्लू टीम की सेनापति हिमजा ने वरुण, पुनर्नवी, बाबा भास्कर और रवि को अपनी सेना में लिया।

रेड टीम ने लाल झंडे लिये तो ब्लू टीम ने नीले झंडे लिये। अब इनसे कहा गया कि रेड टीम ब्लू टीम के खेमे में जाकर अपना झंडा फहराए और ब्लू टीम रेड टीम के खेमे में। देखते हैं इसमें कौन जीतेगा। वहीं अपने खेमे से दूसरे के झंडे को निकालने का हक होगा।

इसे भी पढ़ें :

अली और पुनर्नवी को मिला सीक्रेट टास्क, श्रीमुखी से गुस्सा हुए बिग बॉस

बजर दबाते ही गेम शुरू हो गया। पहले तो सब कुछ मनोरंजक लगा पर बाद में झगड़ा शुरू हो गया। दूसरे के राज्य में जाकर अंडे लाना था। सबने इसके लिए लड़ाई लड़ी। इसी तरह ये गेम चलता रहा।

रणनीतिक रूप से उन्नत इस खेल में, आखिर में राहुल, रवि और अली रेजा के साथ ड्रैगन अंडे लेकर अगले स्तर पर चले गए।

कैप्टेंसी के टास्क में राहुल, रवि व अली रेजा अगले स्तर पर पहुंचे। इन तीनों में से किसी को कैप्टेंसी मिल सकती है। रवि सबसे कूल रहता है, गुस्से वाला अली, हंसते-हंसते सब कुछ निपटाने वाला राहुल- अब देखना यह है कि इन तीनों में से कौन कैप्टेन बनता है।