कोलकाता: मिस इंडिया यूनिवर्स उशोशी सेनगुप्ता ने बीच सड़क अपने साथ हुए दुर्वव्यवहार के बारे में सोशल मीडिया पर पोस्ट कर जानकारी दी। इसके बाद मामले पर बवाल मचा हुआ है। मॉडल से अभिनेत्री बनी उशोशी सेनगुप्ता ने आरोप लगाया है कि काम से घर लौटने के दौरान कुछ अज्ञात शरारती तत्वों ने जवाहरलाल रोड क्रॉसिंग के निकट उसका पीछा किया और उसके साथ अभद्र व्यवहार किया। पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस घटना के संबंध में सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है। यह घटना सोमवार की रात लगभग 11 बजकर 40 मिनट पर हुई थी। ये गिरफ्तारियां सेनगुप्ता द्वारा लिए गए फोटोज और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर हुई है। सेनगुप्ता का दावा है कि वह एक एप बेस्ड कैब से अपनी एक सहकर्मी के साथ घर लौट रही थीं। इसी दौरान उनकी कार को बाइक सवार युवकों ने टक्कर मार दी और वे कार चालक को बाहर निकालकर पीटने लगे।

यह भी पढ़ें:

‘स्पेशल सैंडल’ पहनकर निकलेंगी अब महिलाएं, छेड़खानी पर बटन दबाते हाजिर होगी पुलिस

पुलिस ने मामले में त्वरित कार्रवाई कर सात लोगों को गिरफ्तार किया है। साथ ही मीडिया ने भी सेनगुप्ता का पूरा सथा दिया। वहीं अभिनेत्री ने ताजा पोस्ट जारी कर मीडिया पर ही निशाना साधा। उनके मुताबिक मीडिया इस खबर की संजीदगी को कम कर रहा है।

मिस इंडिया यूनिवर्स 2010 उशोशी सेनगुप्ता की हिम्मत की सोशल मीडिया पर खूब तारीफ हो रही है। इसके साथ ही कोलकाता पुलिस पर कार्रवाई का काफी दबाव है।

उशोशी सेनगुप्ता ने फेसबुक पर वाकये के बारे में विस्तार से लिखा, ''कल रात करीब 11:40 पर अपना काम खत्म करने के बाद घर जाने के लिए मैंने JW मैरियट, कोलकाता से उबर ली. मेरी दोस्त भी मेरे साथ थी. हम एलीगिन की ओर जाने के लिए जब बाएं मुड़ रहे थे उस दौरान बाइक से कुछ लड़के आए और कार से टकरा गए. इसके बाद उन्होंने बाइक रोकी और चिल्लाना शुरू कर दिया. वहां पर करीब 15 लड़के थे. उन्होंने ड्राइवर को खींच लिया और उसकी पिटाई शुरू कर दी. ऐसे में मैंने घटना का वीडियो बनाना शुरू किया.'

उशोशी ने आगे लिखा, 'इस दौरान मुझे एक पुलिस अधिकारी दिखा. मैं उसके पास दौड़ते हुए पहुंची और लड़कों को रोकने की मांग की. इस पर पुलिस अधिकारी ने बताया कि यह उनके अधीन नहीं आता है बल्कि भवानीपुर पुलिस स्टेशन के अधिकार क्षेत्र में आता है. मेरे बार बार गुजारिश करने पर पुलिस आई और लड़कों को पकड़ लिया. लेकिन लड़कों ने पुलिस अधिकारियों को धक्का दिया और वहां से भाग निकले. इसके बाद भवानीपुर पुलिस स्टेशन से दो अधिकारी आए, तब तक 12 बज चुके थे. मैंने ड्राइवर से मुझे और मेरे सहकर्मी को घर छोड़ने को कहा और सुबह पुलिस स्टेशन चलने का फैसला किया.'

उशोशी के मुताबिक जब वे लोग घटनास्थल से निकले तो इन लड़कों ने उनका पीछा किया और जब वे अपनी दोस्त को ड्रॉप कर रही थी तो तीन बाइक पर छह लड़कों ने आकर उनसे मारपीट शुरू कर दी. मॉडल को बाहर खींच लिया और वीडियो डिलीट करने के लिए मेरे फोन को तोड़ने की कोशिश करने लगे. मॉडल के चिल्लाने के बाद भीड़ इकट्ठआ हुई और तब जाकर बदमाश वहां से भाग निकले।