हैदराबाद : तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के लिए मतगणना के एक दिन पहले सोमवार को राजनीतिक दलों की गतिविधियां तेज हो गयी। भाजपा ने टीआरएस को बहुमत से कम सीटें आने पर समर्थन का संकेत दिया वहीं एआईएमआईएम ने भी केसीआर का साथ देने की घोषणा की है।

बहरहाल, कांग्रेस के नेतृत्व में चार दलों के गठबंधन ‘प्रजाकुटमी' ने राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन से मुलाकात कर त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति में गठबंधन को ‘एकल इकाई' के तौर पर देखने का अनुरोध किया। अधिकतर एग्जिट पोल्स में तेलंगाना राष्ट्र समिति के आसानी से जीतने का अनुमान लगाया गया है, जबकि कुछ में उसके और कांग्रेस नीत ‘प्रजाकुटमी' के बीच करीबी मुकाबला बताया गया है।

यह भी पढ़ें :

केसीआर में हैं स्वत: सरकार गठन करने की शक्ति : ओवैसी

बंद नहीं हुआ है TRS को समर्थन देने का विकल्प : GVL

कांग्रेस नीत ‘प्रजाकुटमी' में तेदेपा, भाकपा और नवगठित तेलंगाना जन समिति भी हैं। मंगलवार की सुबह 119 विधानसभा सीटों के लिए मतगणना होगी और इसके नतीजों से 1821 उम्मीदवारों के भविष्य का फैसला होगा। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता जी वी एल नरसिम्हा राव ने कहा है कि ज्यादातर एक्जिट पोल में टीआरएस (तेलंगाना राष्ट्र समिति) तेलंगाना में सत्ता पर काबिज होती दिख रही है और इसके सही साबित होने की संभावना है। राव ने यह संकेत दिया कि कांग्रेस को विपक्ष में रखने के लिए भाजपा के. चंद्रशेखर राव से हाथ मिलाने से गुरेज नहीं करेगी।

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस या असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली एमआईएम से भाजपा को कोई मतलब नहीं होगा।'' उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा निश्चित तौर पर एक स्थायी सरकार चाहती है और त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति में हम देखेंगे कि कौन हमारा समर्थन मांगता है, हम निश्चित तौर पर कांग्रेस या एआईएमआईएम को समर्थन नहीं देंगे।''

साल 2014 के चुनाव में भाजपा ने अविभाजित आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू के नेतृत्व वाली तेलगु देशम पार्टी के साथ गठबंधन में पांच सीटें जीती थीं। इसके साथ ही राव ने कहा, ‘‘हमने तेलंगाना में चुनाव कांग्रेस और टीआरएस दोनों के खिलाफ लड़ा था इसलिए विपक्ष में बैठकर हम खुश होंगे।''

एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि टीआरएस अपने बलबूते तेलंगाना में अगली सरकार बनायेगी और उनकी पार्टी टीआरएस तथा उसके प्रमुख के चन्द्रशेखर राव के साथ खड़ी रहेगी। ओवैसी आज एक बुलेट मोटरसाइकिल पर सवार होकर राव के कार्यालय सह आवास प्रगति भवन पहुंचे और करीब तीन घंटे तक उनके साथ रहे।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘अपनी पार्टी की ओर से मैंने कार्यवाहक मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव से मुलाकात की। मैं पूरी तरह आश्वस्त हूं और केसीआर साब भी आश्वस्त हैं कि तेलंगाना के लोग मुख्यमंत्री पद के लिए केसीआर को फिर से अपना आशीर्वाद देंगे। वह अपने बलबूते नयी सरकार बनाएंगे।''

एआईएमआईएम ने सात दिसम्बर को हुए विधानसभा चुनाव में आठ सीटों पर चुनाव लड़ा था जबकि 2014 के चुनाव में इस पार्टी ने सात सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किये थे और टीआरएस का समर्थन किया था। यह पूछे जाने पर कि अगर भाजपा टीआरएस के साथ गयी तो क्या एआईएमआईएम पीछे हट जाएगी, इस पर उन्होंने कहा, ‘‘वहां ऐसी स्थिति नहीं होगी। भाजपा जिसकी पांच सीटें है, उसकी सीटें घटेगी। आपको कल दोपहर तक दिख जाएगा।''

दूसरी ओर कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हम से राजभवन में मुलाकात करके मतगणना के बाद कांग्रेस को ही सरकार बनाने का न्यौता देने का आग्रह किया है। इस मुलाकात को लेकर राजनीतिक गलियारों में बहस भी छिड़ गई है।