नई दिल्ली : गणतंत्र दिवस की तैयारियां इस वक्त पूरे देश में की जा रही है। खासकर राजधानी दिल्ली को विशेष तौर पर सजाया जा रहा है। राजघाट पर होने वाली परेड के लिए सेना की तैयारी काफी दिनों से चल रही है। जानिए इस बार गणतंत्र दिवस की परेड में क्या रहेगा सबके मुख्य आकर्षण का केंद्र।

राजपथ पर होने वाली गणतंत्र दिवस की परेड वैसे तो हर बार सबका ध्यान अपनी ओर खींचती है। इसमें शामिल होने वाली झांकियां, वीर जवान और सेना के हथियार आकर्षण का प्रमुख केंद्र होते हैं, जो हमारे देश की भव्यता, विविधिता और विशिष्टता का परिचय कराते हैं।

रिहर्सल करतीं सीआरपीएफ की महिला जवान
रिहर्सल करतीं सीआरपीएफ की महिला जवान

महिला बाइकर्स का दस्ता

सीआरपीएफ की महिला बाइकरों का दस्ता इस बार 26 जनवरी को आयोजित होने वाली गणतंत्र दिवस परेड के दौरान राजपथ पर पहली बार हैरत अंगेज प्रदर्शन दिखाएगा। परेड के अंत में महिला बाइकरों का 65 सदस्यीय दल 350 सीसी रॉयल एनफील्ड बुलेट मोटरसाइकिल पर कलाबाजी के कौशल का प्रदर्शन करेगा।

सीआरपीएफ के प्रवक्ता उप महानिरीक्षक (डीआईजी) मोसेस दिनाकरण ने बताया, “यह पहला मौका होगा जब हमारी महिला बाइकर गणतंत्र दिवस परेड में हिस्सा लेने जा रही हैं।” उन्होंने कहा, “इस दल की स्थापना 2014 में उस संकल्पना के तहत की गई थी, जिसमें हमारे द्वारा सभी क्षेत्रों में महिलाओं को समान भागीदारी की प्रतिबद्धता जाहिर की गई है।”

यह भी पढ़ें :

क्या आप जानते हैं स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर झंडा फहराने में क्या है अंतर

पहले मुख्यमंत्री नहीं राज्यपाल फहराते थे स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगा, जानिए कैसे बदली यह परंपरा

दुनिया का सबसे बड़ा अर्धसैनिक बल

इस दस्ते की कमान त्वरित कार्रवाई बल (आरएएफ) में तैनात निरीक्षक सीमा नाग करेंगी। आरएएफ असल में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की दंगा निरोधी इकाई है। केरिपुब 3.25 लाख कर्मियों के साथ दुनिया का सबसे बड़ा अर्धसैनिक बल है। महिला बाइक दस्ते के सदस्यों का चुनाव सीआरपीएफ के प्रशिक्षकों द्वारा खासतौर पर किया गया है और ये 25 से 30 साल आयु वर्ग की हैं।