एकादशी तिथि का हिंदू धर्म में बड़ा महत्व है। हर माह दो एकादशी आती है और इस दिन व्रत करके भगवान विष्णु का पूजन किया जाता है जिससे घर में सुख-संपन्नता आती है साथ ही हर तरह की समस्याओं से छुटकारा भी मिलता है।

वहीं माघ माह के कृष्णपक्ष की एकादशी जो कि षटतिला एकादशी के नाम से जानी जाती है, इस दिन काले तिल से भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। माना जाता है कि इस दिन जो लोग पूरे विधि-विधान से व्रत करके भगवान विष्णु की पूजा करते हैं उन्हें विष्णु के साथ मां लक्ष्मी का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है।

सोशल मीडिया के सौजन्य से 
सोशल मीडिया के सौजन्य से 

दूसरी ओर माना जाता है कि षटतिला एकादशी के दिन दान का भी बहुत महत्व है। इस दिन तिल का दान करने और श्रद्धापूर्वक व्रत रखने से कई जन्मों का पाप कटता है।

जो लोग रोग इत्यादि से परेशान रहते हैं या फिर जो लोग आर्थिक तंगी से परेशान रहते हैं या फिर जिनके घर में मांगलिक कार्य नहीं हो रहे होते हैं उन्‍हें इस दिन कुछ खास उपाय करने चाहिए। ऐसा करने से इनके घर में सुख-शांति तो बनी ही रहेगी साथ ही स्वास्थ्य में भी सुधार होगा और मांगलिक कार्य भी संपन्न होंगे।

इस बार षटतिला एकादशी 20 जनवरी, सोमवार को है जिस दिन व्रत करके भगवान विष्णु की पूजा के साथ ही ये खास उपाय किये जा सकते हैं।

तो आइये यहां जानते हैं षटतिला एकादशी के दिन कौन से उपाय करने से लाभ होता है-

- षटतिला एकादशी के दिन धनवान बनने के लिए भगवान विष्णु, लक्ष्मी जी तथा शनि देव को काले तिल की मिठाई चढ़ाएं।

सोशल मीडिया के सौजन्य से 
सोशल मीडिया के सौजन्य से 

- यदि आपका बच्‍चा पढ़ाई में कमजोर है तो इस दिन पीपल के पेड़ पर दूध में तिल डाल कर चढ़ाएं।

- इस दिन दही और तिल का उबटन लगाएं। इसके बाद तिल के पानी से नहाएं।

- एक चुटकी काला तिल लें और उसे दूध में डाल कर जल मिला कर सूर्य को चढ़ाएं।

इसे भी पढ़ें :

जानें आखिर कब है षटतिला एकादशी का व्रत, क्यों और कैसे पड़ा इसका ये नाम

षटतिला एकादशी 2020: काले तिल से करेंगे पूजा तो प्रसन्न होंगे भगवान विष्णु, तिल दान का भी है महत्व

- इसके साथ ही काली गाय को काले तिल मिला कर रोटी खिलाएं।

- जल में काले तिल और दूध डाल कर शिव जी को चढ़ाएं।
षटतिला एकादशी के दिन तिल का महाप्रयोग करने से आप धनवान भी बन सकते हैं क्‍योंकि तिल में महालक्ष्मी का वास होता है।