शनिदेव का नाम सुनते ही कई लोग डर जाते हैं। ये समझने लगते हैं कि शनिदेव कहीं कुछ बुरा न कर दे। पर इन लोगों को ये बात याद रखनी चाहिए कि शनि न्याय के देवता हैं और वे किसी के साथ कुछ गलत नहीं करते।

शनिदेव की छवि अत्यंत क्रोधित रहनेवाले देवता के रूप में भी मानी गई है। इसीलिए जब भी किसी राशि पर शनिदेव का आगमन होता है तो लोग डर जाते हैं कि पता नहीं अब क्या होगा।

वहीं इसी महीने 24 जनवरी को शनि मकर राशि में प्रवेश करने वाले हैं और इससे कई लोग डर भी रहे हैं और इसे अशुभ का संकेत भी मान रहे हैं लेकिन ध्यान देने वाली बात यह है कि शनिदेव को अन्याय करने वाले लोगों पर ही क्रोध आता है।

सोशल मीडिया के सौजन्य से 
सोशल मीडिया के सौजन्य से 

दूसरी ओर 30 साल बाद शनि के मकर राशि के प्रवेश के साथ ही कुंभ राशि वालों की साढ़ेसाती शुरू हो जाएगी। ऐसे में अपने कर्मों को बेहतर बनाते हुए शनिदेव की तिरछी दृष्टि से बचने के लिए शनिवार के दिन कुंभ राशि वालों के साथ ही अन्य राशि के जातक भी कुछ उपाय कर सकते हैं-

तो आइये यहां जानते हैं उन उपायों के बारे में ....

- सूर्यास्त के समय पीपल के पेड़ के पास दिया जलाया जाये तो शनिदेव की कृपा दृष्टि आप पर पड़ने लगती है। कोशिश करें कि पेड़ किसी मंदिर में लगा हो अगर ऐसा पीपल के पेड़ में सूर्य अस्त होते समय दीया जलाया जाए तो शनि की महादशा समाप्त होने लगती है।

-शनिवार के दिन सुबह उठकर स्नान करें, उसके बाद एक कटोरी तेल से भरें और उस तेल में अपना चेहरा देखें और फिर उस तेल को शनिवार को ही किसी गरीब या जिसे जरूरत हो उसे दान कर दें। वैसे भी शनिवार को तेल का दान करना शनिदेव को प्रसन्न करने का उपाय बताया गया है।

-अगर आप फूल नहीं चढ़ा सकते और सुबह तेल दान नहीं कर सकते तो आप रुद्राक्ष की माला लेकर एक सौ आठ बार 'ॐ शं शनैश्चराय नमः' का जप करें, शनिदेव की कृपा बनेगी और महादशा दूर होगी।

सोशल मीडिया के सौजन्य से 
सोशल मीडिया के सौजन्य से 

-शनिदेव ने हनुमान जी को वचन दिया था कि जो आपकी पूजा करेगा मेरी भी कृपा उस पर पड़ेगी, इसलिए शनिवार के दिन हनुमान जी की पूजा करने को भी कहा जाता है।

-अगर आप किसी शनि मंदिर में जाते हैं और अगर उनकी प्रतिमा पर फूल चढ़ाते हैं तो ध्यान रखें कि नीले रंग के फूल चढ़ाएं। उन्हें ये प्रिय है। शनिवार को दान पुण्य करने से भी शनि की कृपा बनती है।

इसे भी पढें:

जानें कब है मौनी अमावस्या, महत्व व स्नान-दान का शुभ-मुहूर्त

शनि की अशुभ छाया पड़ने के होते हैं कई कारण, बचने के लिए करें ये खास उपाय

इसके अलावा मन साफ रखें, गलत विचार मन में ना लाएं और किसी पर अत्याचार ना करें। दूसरों की मदद करें शनिदेव न्याय के देवता हैं, ऐसे में वो अपने भक्तों के साथ हमेशा अच्छा ही करते हैं।

- अक्सर लोगों की आदत होती है कि जानवरों को अपने से कमजोर समझते हुए उन्हें मारते, पीटते हैं जबकि उनका ऐसा करना हर लिहाज से गलत है। जानवरों को प्रताड़ित करना कानून की नजर में दंडनीय होने के साथ ही शास्त्रों में भी पाप माना गया है, ऐसे लोगों को शनिदेव कभी माफ नहीं करते।