मकर संक्रांति का पर्व हमारे हिंदू धर्म में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन जहां सूर्य पूजा की जाती है वहीं पवित्र नदियों में स्नान किया जाता है साथ ही दान करने का भी विधान है। दूसरी ओर इस त्योहार पर पतंगबाजी भी जमकर होती है और क्या बच्चे और क्या बड़े, हर कोई इसका आनंद लेता है।

मकर संक्रांति पर तिल की मिठाइयां बनती है तो इसका दान भी किया जाता है। इस बार मकर संक्रांति का यह पर्व 15 जनवरी, बुधवार को मनाया जाएगा। माना जाता है कि स्नान-दान व सूर्य पूजा के साथ ही अगर आप इस दिन कुछ खास उपाय कर लें तो आपकी सारी समस्याएं खत्म हो जाएंगी और आपको सूर्य देव से मनोवांछित फल की प्राप्ति भी होगी।

तो आइये यहां हम आपको बताते हैं उन खास उपायों के बारे में जो आप इस दिन कर सकते हैं ....

- माना जाता है कि मकर संक्रांति को सबको सूर्योदय से पूर्व उठकर नहा लेना चाहिए क्योंकि पुराण में लिखा है कि 'जो व्यक्ति मकर संक्रांति के दिन स्नान नहीं करता है वह रोगी और निर्धन बना रहता है। तो इस दिन सूर्योदय से पहले उठकर ही स्नान कर लेना चाहिए।

- कहा जाता है मकर संक्रांति के दिन तिल-स्नान करना चाहिए क्योंकि शास्त्रो के अनुसार इस दिन तिल स्नान करने वाला मनुष्य सात जन्म तक आरोग्य रहता है।

सोशल मीडिया के सौजन्य से 
सोशल मीडिया के सौजन्य से 

- माना जाता है कि मकर संक्रांति के दिन उगते हुए सूर्य को तांबे के लोटे के जल में कुंकुम, अक्षत, तिल तथा लाल रंग के फूल डालकर अर्घ्य देना चाहिए और ऊँ घृणि सूर्याय नम: मंत्र का जाप करना चाहिए।

- शास्त्र कहते हैं कि मकर संक्रांति के दिन गरीबों को भोजन करवाने से घर में कभी भी अन्न-धन की कमी नहीं हो सकती।

- कहते हैं मकर संक्रांति के दिन गुड़ एवं कच्चे चावल बहते हुए जल में प्रवाहित करना चाहिए। इससे सभी संकटों से मुक्ति मिल जाती है।

- कहा जाता है कि मकर संक्रांति के दिन साफ लाल कपड़े में गेहूं व गुड़ बांधकर किसी जरूरतमंद अथवा ब्राह्मण को दान देने से भी व्यक्ति की सभी मनोकामनाएँ पूरी हो जाती है।

- माना जाता है कि मकर संक्रांति के दिन तांबे का सिक्का या तांबे का चौकोर टुकड़ा बहते जल में प्रवाहित करना चाहिए इससे कुंडली में स्थित सूर्य दोष कम हो जाता है।

सोशल मीडिया के सौजन्य से 
सोशल मीडिया के सौजन्य से 

- कहा जाता है मकर संक्रांति के दिन तिल युक्त जल पितरों को देना, अग्नि में तिल से हवन करना, तिल खाना खिलाना एवं दान करना चाहिए, इससे पुण्य की प्राप्ति होती है।

- साथ ही यह भी कहते हैं कि मकर संक्रांति के दिन गौ माता को तिल मिली हुई खिचड़ी खिलाने से शनि ग्रह और सभी ग्रहों के अशुभ प्रभाव खत्म हो जाते हैं।

इसे भी पढ़ें :

मकर संक्रांति के लिए ऐसे करें दान की थाली तैयार, ये चीजें जरूर रखें

मकर संक्रांति 2020: इस दिन भूलकर भी न करें ये गलतियां वरना पड़ेगा पछताना

तो देखा आपने कितने आसान से उपाय करके हम जीवन की सभी समस्याओं व कष्टों से मुक्त हो सकते हैं।