जानें कब और क्यों मनाई जाती है दत्तात्रेय जयंती, महत्व व कथा 

भगवान दत्तात्रेय  - Sakshi Samachar

मार्गशीर्ष मास की पूर्णिमा को दत्तात्रेय जयंती मनाई जाती है। इसी दिन भगवान दत्तात्रेय का जन्म प्रदोषकाल में हुआ था। भगवान दत्तात्रेय को ब्रह्मा, विष्णु, महेश तीनों का स्वरूप माना जाता है। दत्तात्रेय को श्री गुरुदेवदत्त भी कहा जाता है।

इस बार 11 दिसंबर 2019 को मार्गशीर्ष मास की पूर्णिमा है और इसी दिन मनाई जाएगी दत्तात्रेय जयंती। इस दिन भगवान दत्तात्रेय के मंदिरों में पूजा-अर्चना के लिए भक्तों की भीड़ रहती है।

मान्यता अनुसार दत्तात्रेय जी ने 24 गुरुओं से शिक्षा प्राप्त की थी। भगवान दत्त के नाम पर दत्त संप्रदाय का उदय हुआ। दक्षिण भारत में इनके अनेक प्रसिद्ध मंदिर भी हैं। माना जाता है कि मार्गशीर्ष मास की पूर्णिमा को भगवान दत्तात्रेय के निमित्त व्रत करने एवं उनके दर्शन-पूजन करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

दत्तात्रेय जयंती पर भगवान दत्तात्रेय के बाल रूप की होती है पूजा 

ऐसा है भगवान दत्तात्रेय का स्वरूप

भगवान दत्तात्रेय के संबंध में प्रचलित है कि इनके तीन सिर हैं और छ: भुजाएँ हैं। इनके भीतर ब्रह्मा, विष्णु तथा महेश तीनों का ही संयुक्त रुप से अंश मौजूद है। दत्तात्रेय जयंती के दिन दत्तात्रेय जी के बालरुप की पूजा की जाती है।

भगवान दत्तात्रेय की जन्मकथा

मान्यता है कि महर्षि अत्रि मुनि की पत्नी अनुसूया की महिमा जब तीनों लोक में होने लगी तो माता अनुसूया के पतिव्रत धर्म की परीक्षा लेने के लिए माता पार्वती, लक्ष्मी और सरस्वती के अनुरोध पर तीनों देव ब्रह्मा, विष्णु, महेश पृथ्वी लोक पहुंचे। तीनों देव साधु भेष रखकर अत्रिमुनि आश्रम में पहुंचे और माता अनुसूया के सम्मुख भोजन की इच्छा प्रकट की।

तीनों देवताओं ने माता के सामने यह शर्त रखी कि वह उन्हें निर्वस्त्र होकर भोजन कराए। इस पर माता संशय में पड़ गई। उन्होंने ध्यान लगाकर जब अपने पति अत्रिमुनि का स्मरण किया तो सामने खड़े साधुओं के रूप में उन्हें ब्रह्मा, विष्णु और महेश खड़े दिखाई दिए।

कुछ ऐसे हुआ भगवान दत्तात्रेय का जन्म 

माता अनुसूया ने अत्रिमुनि के कमंडल से निकाला जल जब तीनों साधुओं पर छिड़का तो वे छह माह के शिशु बन गए। तब माता ने शर्त के मुताबिक उन्हें भोजन कराया। वहीं, पति के वियोग में तीनों देवियां दुखी हो गईं।

तब नारद मुनि ने उन्हें पृथ्वी लोक का वृत्तांत सुनाया। तीनों देवियां पृथ्वीलोक में पहुंचीं और माता अनसूया से क्षमा याचना की।

इसे भी पढ़ें :

पूजा में दीपक जलाते समय इन बातों पर ध्यान दें, मिलेगा शुभ फल

भूलकर भी न करें इन लोगों का नमक खाने की गलती, वरना बाद में पछताएंगे

तीनों देवों ने भी अपनी गलती को स्वीकार कर माता की कोख से जन्म लेने का आग्रह किया। इसके बाद तीनों देवों ने दत्तात्रेय के रूप में जन्म लिया। तभी से माता अनुसूया को पुत्रदायिनी के रूप में पूजा जाता है।

Advertisement
Back to Top