निर्भया से प्रियंका तक, इन वारदातों ने देश को झकझोरा

डिजाइन इमेज - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : देश में एक बार फिर उबाल है। लोग एक बार फिर सड़कों पर उतरे हैं। न्याय की मांग फिर की जा रही है। यह सब एक 'बेटी' के लिए किया जा रहा है, जैसा साल 2012 में निर्भया गैंगरेप के बाद भी किया गया था। साल बदला, समय बदला पर तस्वीर जस की तस बनी हुई है। पहले लोगों ने निर्भया के लिए न्याय मांगा अब हैदराबाद की प्रियंका रेड्डी के लिए मांग रहे हैं। अगर कुछ नहीं बदला तो वह है उन दरिंदों का नजरिया, जो आज भी बिना सोचे-समझे किसी परिवार को उजाड़ देता हैं।

दिल्ली में साल 2012 में निर्भया गैंगरेप के बाद देश के अंदर जिस तरह का ग़ुस्सा दिखा, उससे उम्मीद जगी थी कि अब शायद ऐसी घटनाएं देखने को नहीं मिलेगी और समाज जागेगा। बावजूद इसके लड़कियों के साथ अमानवीयता की ऐसी घटनाएं लगातार सामने आ रही है, जो अंदर तक झकझोर देता है। आइए जानते हैं ऐसी ही क्रूरतम घटनाओं के बारे में जिसने देश को हिलाकर रख दिया है।

दिल्ली का निर्भया कांड

16 दिसबंर 2012 की रात दिल्ली की सड़क पर दरिंदगी का जो खेल खेला गया, उसे देश कभी नहीं भूल पाएगा। युवती पैरामेडिकल की छात्रा थी। वह फिल्म देखने के बाद अपने दोस्त के साथ बस में सवार होकर मुनिरका से द्वारका जा रही थी। बस में उन दोनों के अलावा सिर्फ 6 लोग थे, जिन्होंने निर्भया के साथ छेड़छाड़ शुरू कर दी और उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया। बाद में छात्रा और उसके दोस्त को दक्षिण दिल्ली के महिपालपुर के नजदीक वसंत विहार इलाके में चलती बस से फेंक दिया था।

एक ही परिवार की चार महिलाओं के साथ गैंगरेप

साल 2017 में यमुना एक्सप्रेसवे पर जेवर-बुलंदशहर मार्ग पर चार महिलाओं के साथ गैंगरेप के मामला सामने आया था। कार में सवार एक परिवार जेवर से बुलंदशहर जा रहा था। रास्ते में कार का टायर पंक्चर होने पर ड्राइवर मदद मांगने के लिए कार से उतरा। इस दौरान छह लोगों ने रोड, चाकू और बंदूक की नोक पर उन पर हमला किया। महिलाओं को पास की झाड़ी में खींचकर ले गए और उनके साथ गैंगरेप किया गया।

हरियाणा में छात्रा के साथ गैंगरेप

हरियाणा के रेवाड़ी में छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म ने देश को हिलाकर रख दिया था। पांच लोगों ने गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया था। घटना महेंद्रगढ़ जिले के कनिना की थी। पांच लोगों ने 12 सितम्बर 2018 को पहले लड़की को नशीला पदार्थ खिलाया और किडनैप किया फिर उसका गैंगरेप कर बस स्टैंड पर छोड़कर फरार हो गए।

हिमाचल में बच्ची के साथ दरिंदगी

शिमला में एक स्कूली बच्ची के साथ दिल दहलाने वाली घटना हुई थी। चार जुलाई 2017 को नाबालिग स्कूली छात्रा के साथ गैंगरेप किया गया। पीड़ित बच्ची शाम को स्कूल से घर लौट रही थी, उस वक्त दरिंदों ने उसे अपनी हवश का शिकार बनाया। बच्ची की लाश दो दिन बाद कोटखाई के जंगल में मिली थी। हिमाचल प्रदेश पुलिस ने मामले में छह संदिग्धों को गिरफ्तार किया था।

प्रदर्शन करती महिलाएं (फाइल फोटो)

कठुआ कांड

साल 2018 की शुरुआत में जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में आठ साल की एक बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म की वारदात होती है। गैंगरेप के बाद जघन्य तरीके से उसकी हत्या कर दी जाती है। 10 जनवरी 2018 को कठुआ जिले की हीरानगर तहसील के रसाना गांव की एक नाबालिग लड़की गायब होती है।

यह भी पढ़ें :

बड़ा खुलासा : पैसे लेकर TV पर इंटरव्यू देता था निर्भया का ‘दोस्त’

प्रियंका की मां ने बयां किया दर्द, मेरी मासूम बेटी के हत्यारों को सरेआम जला देना चाहिए

करीब एक सप्ताह बाद 17 जनवरी को जंगल में उस मासूम की लाश मिलती है। मेडिकल रिपोर्ट में पता चला कि लड़की के साथ कई बार कई दिनों तक सामूहिक दुष्कर्म हुआ है और पत्थरों से मारकर उसकी हत्या की गई।

Advertisement
Back to Top