देवउठनी एकादशी का हिंदू धर्म में बड़ा महत्व है क्योंकि इसी दिन भगवान विष्णु चार माह की योग निद्रा के बाद जागते हैं और फिर इसी दिन से रुके हुए सारे शुभ काम आरंभ हो जाते हैं। शुभ कामों की शुरुआत तुलसी विवाह से होती है। इसी दिन तुलसी माता का विवाह पूरे विधि-विधान से शालिग्राम से कराया जाता है।

तुलसी माता के विवाह को सबसे शुभ माना जाता है क्योंकि ऐसा करने से न केवल भगवान विष्णु बल्कि माता लक्ष्मी और तुलसी माता का भी आशीर्वाद प्राप्त होता है। इतना ही नहीं तुलसी विवाह कराने से कन्यादान जैसे शुभ फलों की भी प्राप्ति होती है।

इस बार देवउठनी एकादशी 8 नवंबर शुक्रवार को है और इसी दिन तुलसी विवाह करवाया जाएगा। यहां यह जानना भी जरूरी है कि तुलसी विवाह से जुड़े कुछ खास नियम होते है जिनका पालन करना भी जरूरी होता है।

इसी तरह एक नियम यह भी है कि कुंवारे लड़के-लड़कियां तुलसी माता का विवाह नहीं करवा सकते। जी हां, किसी भी यज्ञ या पूजा या फिर कन्यादान में ही क्यों न हो अकेले नहीं बैठते।

तुलसी विवाह 
तुलसी विवाह 

शादी के बाद किसी भी पूजा में पति-पत्नी दोनों बैठते हैं और पूजा को पूरे विधि-विधान से संपन्न करते हैं। इसके साथ ही शास्त्रों में यह भी वर्णित है कि यदि कोई कुंवारा लड़का या कुंवारी लड़की तुलसी जी का विवाह अकेले करती है तो उसे इसका कोई भी लाभ प्राप्त नहीं होता।

इसके अलावा तुलसी विवाह वही लोग करते हैं जिनके कन्या संतान नहीं होती। वह लोग मां तुलसी को अपनी बेटी समझकर उनका विवाह करके कन्यादान का फल प्राप्त करते हैं।

लेकिन यदि आप अकेले हैं या आपका विवाह नहीं हुआ है तो आप माता तुलसी का विवाह शालिग्राम जी के साथ नहीं कर सकते।

ऐसे करें तुलसी विवाह 
ऐसे करें तुलसी विवाह 

यदि आप तुलसी विवाह के दिन पुण्य फल प्राप्त करना चाहते हैं तो आप तुलसी विवाह के दिन तुलसी का दान अवश्य कर सकते हैं। किसी जरूरतमंद को जिसके यहां तुलसी का पौधा न हो उसे तुलसी का पौधा दे दें, इससे आपको पुण्यफल की प्राप्ति हो जाएगी।

दूसरी ओर आप इस दिन किसी तुलसी के पौधे को अपने हाथ से किसी ऐसे स्थान पर लगाएं जहां पर इसकी नियमित रूप से देखभाल कर सकें।

आप तुलसी विवाह के दिन किसी निर्धन व्यक्ति को भी तुलसी का पौधा दान में दे सकते हैं। इसके अलावा आप चाहें तो मंदिर में भी तुलसी का पौधा दान कर सकते हैं। यदि आप ऐसा करते हैं तो आपको तुलसी विवाह के पुण्य फलों की प्राप्ति हो जाएगी।

इसे भी पढ़ें :

Tulsi Vivah 2019: इस दिन करेंगे ये खास उपाय तो भगवान विष्णु होंगे प्रसन्न और देंगे मनचाहा वरदान

Tulsi Vivah 2019: तुलसी संग रखे जाते हैं शालिग्राम, इनका विवाह करवाने से मिलता है शुभ फल

आप चाहें तो कहीं पर भी तुलसी विवाह में सम्मिलित हो सकते हैं और माता तुलसी से अपनी शादी के लिए प्रार्थना कर सकते हैं।

इस दिन यदि कुंवारी लड़की माता तुलसी पर चढ़े श्रृंगार को अपने पास संभाल कर रखती हैं तो उनका विवाह शीघ्र हो हो जाता है। लेकिन कुंवारी लड़कियों को इस श्रृंगार का उपयोग नहीं करना चाहिए और यदि कुंवारे लड़के शालिग्राम जी पर चढ़ाए गए वस्त्र को अपने पास संभालकर रखते हैं तो उनका भी विवाह शीघ्र ही हो जाता है।

तो आप ये सारी बातें जानकर यहां बताए अनुसार करें आपको अवश्य लाभ होगा।