दिवाली का त्योहार बस आने ही वाला है और इसकी तैयारियां शुरू भी हो गई है। दिवाली पांच दिवसीय महापर्व है और इसकी शुरुआत धनतेरस से ही हो जाती है। इस साल धनतेरस 25 अक्टूबर को है।

कहते हैं कि धनतेरस पर खरीदी गई वस्तु जल्दी खराब नहीं होती बल्कि उसमें तेरह गुना वृद्धि हो जाती है। यही कारण है कि लोग इस दिन जमकर खरीदी करते हैं। खासकर धनतेरस पर सोना, चांदी, भूमि, वाहन और बर्तन इत्यादि चीजों की खरीदारी की जाती है।

इन सबके अलावा इस दिन झाड़ू खरीदने का बड़ा महत्व है। देखा जाए तो यह एक अनोखी परंपरा ही है जो प्राचीनकाल से ही चली आ रही है।

जो लोग सोना, चांदी नहीं खरीद सकते वे धनतेरस पर एक नई झाड़ू जरूर खरीदते हैं वहीं जो लोग बाकी की चीजें खरीदते हैं वे भी झाड़ू खरीदते हैं। इसीलिए धनतेरस के दिन हर घर में एक नई झाड़ू जरूर मिल जाती है।

लक्ष्मी का रूप होती है झाड़ू 
लक्ष्मी का रूप होती है झाड़ू 

तो यह है झाड़ू से जुड़ी मान्यता

वहीं मत्स्यपुराण के अनुसार झाड़ू को मां लक्ष्मी का रूप माना जाता है। वहीं बृहत संहिता में झाड़ू को सुख-शांति की वृद्धि करने वाली और दुष्ट शक्तियों का सर्वनाश करने वाली बताया गया है।

झाड़ू को घर में दरिद्रता को हटाने का कारक भी बताया गया है और कहते हैं कि इसके इस्तेमाल से मनुष्य की दरिद्रता भी दूर होती है। साथ ही इस दिन घर में नई झाड़ू से झाड़ू लगाने से कर्ज से भी मुक्ति मिलती है।

इसे भी पढ़ें :

Diwali 2019 : विशेष योग में मनेगी दिवाली, सुबह निखरेगा रूप और रात में होगी लक्ष्मी पूजा

Dhanteras 2019: बनना चाहते हैं धनवान तो दिवाली से पहले धनतेरस पर करें इन पांच चीजों का दान

झाड़ू से जुड़ी पौराणिक कथा

भगवान श्रीकृष्ण ने महाभारत में झाड़ू से अर्जुन-द्रौपदी की शादी होने, दुर्बलता से शक्ति प्राप्त करने और धनाढ्य होने की कहानी को बताया है।

दंत कथाओं के अनुसार द्रौपदी की शादी अर्जुन से नहीं हो पा रही थी तब एक टोटका किया गया था जिसके बाद घर में झाड़ू से झाड़ू लगायी गयी। माना जाता है कि इसके बाद ही द्रौपदी और अर्जुन की शादी हो गयी थी।

धनतेरस पर खरीदी जाती है नई झाड़ू 
धनतेरस पर खरीदी जाती है नई झाड़ू 

सही तरीके से झाड़ू रखना भी है जरूरी

शुरु से ही झाड़ू को घर में छिपा कर रखने और सही स्थान पर रखने की परंपरा रही है। मान्यता यह भी है कि झाड़ू को खड़ा रखने से शत्रु बाधा उत्पन्न करते हैं। इसलिए झाड़ू को लिटा कर या छुपा कर रखा जाता है जिससे दुष्ट शक्ति और शत्रुओं की परेशानी नहीं झेलनी पड़ती है।

तीन तरह की झाड़ू

कुश की झाड़ू : पूजा स्थल और तंत्र शक्तियों में इस्तेमाल किया जाता है

मोरपंख की झाड़ू: देवताओं की बलैया और न्योछावर करने में इस्तेमाल

फूल-परागन झाड़ू: इस झाड़ू से घर को झाड़ने पर दरिद्रता का नाश होता है

झाड़ू से जुड़़े वास्तु टिप्स

हम सब जानते ही हैं कि दिवाली से पहले आपको अपना घर भी साफ-सुथरा रखना चाहिए। अब ये तो सब जानते हैं कि घर की सफाई झाड़ू से की जाती है। इसके इलावा बहुत कम लोग जानते है कि झाड़ू का संबंध पैसों से होता है।

इसे भी पढ़ें :

Dhanteras 2019: इस दिन होती है मां लक्ष्मी के साथ कुबेर की पूजा, जानें आखिर दोनों में क्या है अंतर

Dhanteras 2019: भूलकर भी धनतेरस को न करें ये गलतियां, मां लक्ष्मी हो जाएंगी नाराज

यही वजह है कि शास्त्रों में झाड़ू को पैर न लगाने की सलाह दी जाती है। वो इसलिए क्योंकि ऐसा करने से माँ लक्ष्मी भी आपसे नाराज हो सकती है यानि अगर हम सीधे शब्दों में कहें तो दिवाली के दिन झाड़ू का भी काफी महत्वपूर्ण स्थान होता है।

हालांकि आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आपको झाड़ू को हमेशा दरवाजे के पीछे छिपा कर ही रखना चाहिए। वो कहते हैं न कि इंसान पैसों को हमेशा लोगों से छिपा कर रखता है। ऐसे में अगर आप झाड़ू को दरवाजे के पीछे छिपा कर रखेंगे तो इससे आपके घर में खूब बरकत होगी।

बहरहाल अगर आप झाड़ू को घर में सही तरीके से रखते हैं तो इससे आपके घर में खूब बढ़ोतरी होती है। इसके इलावा आपको बता दें कि झाड़ू की पूजा धनतेरस के दिन करनी चाहिए। हालांकि कुछ लोग झाड़ू की पूजा करना उचित नहीं मानते, क्योंकि इसका इस्तेमाल गंदगी साफ करने के लिए किया जाता है।

मगर हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि धनतेरस के दिन झाड़ू की पूजा करना काफी शुभ माना जाता है। गौरतलब है कि आपको धनतेरस के दिन नयी झाड़ू जरूर खरीदनी चाहिए। इसके साथ ही जिन चीजों से आपके घर पर बुरा प्रभाव पड़ता हो, उन्हें धनतेरस के पहले अपने घर से हटा देना चाहिए।