अब्दुल कलाम के यह संदेश पढ़कर बदल सकती है आपकी जिंदगी

डिजाइन इमेज - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : देश के पूर्व राष्ट्रपति एवं 'मिसाइल मैन' डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की जिंदगी उन लाखों युवाओं के लिए प्रेरणा है, जो खुली आंखों से सपने देखते हैं। अब्दुल कलाम की आज जयंती है, इस मौके पर जानते हैं उनकी वो प्रेरणादायी बातें जिसे पढ़कर आप के अंदर एक नई ऊर्जा पैदा होगी।

पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम के एक गांव में हुआ था। उनका पूरा नाम ‘अबुल पक्कीर जैनुलआबेदीन अब्दुल कलाम’ था।

अब्दुल कलाम के परिवार में पांच भाई और पांच बहन थी और उनके पिता मछुआरों को बोट किराए पर देकर घर चलाते थे। उनका बचपन बेहद गरीबी में बीता था।

अब्दुल कलाम की प्रेरणादायी बातें

आसमान की तरफ देखिए। हम अकेले नहीं हैं। पूरा ब्रह्मांड हमारा दोस्त है और वो उन्हीं को सबसे सर्वोत्तम देता है जो सपने देखते हैं, मेहनत करते हैं।

इंसान को मुश्किलों की ज़रूरत पड़ती है क्योंकि सफलता का आनंद उठाने के लिए ये मुश्किल बहुत ज़रूरी हैं।

हमें तभी याद रखा जाएगा जब हम अपनी युवा पीढ़ी को एक समृद्ध और सुरक्षित भारत दे पाएं। इस समृद्धि का स्रोत आर्थिक समृद्धि और सभ्य विरासत होगी।

जो लोग मन से काम नहीं कर सकते, उन्हें जो सफलता मिलती है वो खोखली और आधी-अधूरी होती है, जिससे आसपास कड़वाहट फैलती है।

शिक्षाविदों को छात्रों के लिए बीच समानता, रचनात्मकता, उद्यमिता और नैतिक नेतृत्व की भावना विकसित करनी चाहिए और वे छात्रों का आर्दश बनें।

मेरा संदेश, ख़ासकर युवा लोगों के लिए ये है कि वो अलग तरीक़े से सोचने का साहस दिखाएं, आविष्कार करने का साहस दिखाएं, अंजाने रास्तों का सफ़र करें, असंभव लगने वाली चीजों को खोजें और समस्याओं पर विजय पाते हुए सफलता हासिल करें। ये वो महान गुण हैं जिन्हें हासिल करने की दिशा में उन्हें काम करना है। युवाओं के लिए यही मेरा संदेश है।

Advertisement
Back to Top