कार्तिक माह आरंभ हो चुका है और इस महीने में व्रत, पूजा, स्नान, दान के साथ ही तुलसी पूजा का भी विशेष महत्व है। वैसे तो हमारे घर में हर दिन तुलसी पूजा होती है पर कार्तिक माह में तुलसी पूजा से कई तरह के लाभ होते हैं।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इसी माह में शालीग्राम और माता तुलसी का विवाह भी संपन्न होता है। माना जाता है कि कार्तिक माह में तुलसी पूजन से जीवन में कई तरह के सकारात्मक बदलाव आते हैं।

द्वापर युग में श्रीकृष्ण भगवान को पाने के लिए गोपिकाएं कार्तिक मास में यमुना स्नान करने के साथ तुलसी की पूजा करती थीं।

यही वजह है कि आज भी कुंवारी कन्याएं मनवांछित फल पाने एवं वर पाने के लिए सुबह स्नान कर तुलसी पूजा कर इस परंपरा को निभाती हैं।

सुबह-शाम तुलसी के पास लगाएं दीपक 
सुबह-शाम तुलसी के पास लगाएं दीपक 

कहते हैं कि कार्तिक का महीना तुलसी का पौधा लगाने के लिए सबसे उत्तम होता है। वहीं कई लोगों के मन में सवाल उठता है कि आखिर घर में कौन सी जगह तुलसी का पौधा लगाना चाहिए।

तो चलिये हम आपको बताते हैं इस माह में कहां लगाएं तुलसी का पौधा ...

- तुलसी का पौधा गुरुवार के दिन ही लगाना चाहिए।

-घर या आंगन के बीच में तुलसी का पौधा लगाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें :

शुरू हो रहा है कार्तिक मास, जानें स्नान-दान का महत्व व इस माह के आवश्यक नियम

करवा चौथ पर यूं राशि अनुसार पहनें कपड़े और पाएं पूजा का शुभ फल

- तुलसी का पौधा आप अपने सोने के कमरे की बालकनी में भी लगा सकते हैं

अगर काफी मेहनत के बाद भी दुर्भाग्य आपका पीछा नहीं छोड़ रहा और आपको सफलता नहीं मिल रही तो आप तुलसी के खास उपाय अपना सकते हैं जो आपके भाग्य को चमका देंगे।

सुबह शाम करें तुलसी पूजा 
सुबह शाम करें तुलसी पूजा 

आइये यहां जानते हैं इन उपायों के बारे में ....

-नौकरी व कारोबार में तरक्की के लिए गुरुवार को तुलसी का पौधा पीले कपड़े में बांधकर, ऑफिस या दुकान में रखें। ऐसा करने से कारोबार बढ़ेगा और नौकरी में प्रमोशन भी हो जाएगा।

-कार्तिक माह में घर में तुलसी का पौधा लगाएं, साथ ही श्रीहरि नारायण का चित्र या प्रतिमा घर में रखें और उस तस्वीर में तुलसी के 11 पत्तों को बांध दें। ऐसा करने से घर में कभी भी संपत्ति की कमी नहीं होती है।

कार्तिक माह में तुलसी पूजा 
कार्तिक माह में तुलसी पूजा 

-धन लाभ के लिए सुबह उठकर तुलसी के ग्यारह पत्ते तोड़ लें। इन पत्तों को तोड़ने से पहले तुलसी मां से हाथ जोड़कर क्षमा मांग लें और इसके बाद ही इन्हें तोड़ें।

इन पत्तों को घर के उस बर्तन में डाल दें जहां आप आटा रखते हैं। इस आटे का प्रयोग करने से कुछ ही दिनों में आपको घर में बदलाव दिखाई देने लगेगा।