गुरुवार का दिन भगवान विष्णु की पूजा के लिए विशेष माना जाता है। वैसे गुरुवार को बृहस्पति की पूजा का विधान भी है। माना जाता है कि अगर गुरुवार को कुछ खास उपाय किये जाए तो हर कष्ट से मुक्ति मिल सकती है।

वहीं गुरुवार को पीला रंग पहनने के लिए भी कहा जाता है क्योंकि बृहस्पति देव को पीले रंग से अधिक प्रेम बताया जाता है इसलिए गुरुवार के दिन ज्यादा से ज्यादा पीले रंग का इस्तेमाल करने के बारे में बताया जाता है।

भगवान को खुश करने के लिए इस दिन भक्त पीले रंग की चीजों का दान करते हैं। पीले रंग के वस्त्रों को धारण करते हैं। गुरुवार के दिन पूजा करने से शादी में आ रही हर तरह की बाधा भी दूर हो जाती है।

आर्थिक परेशानी दूर होती है और घर में सुख शांति का प्रवेश होता है। अगर आप भी जीवन में परेशान चल रहे हैं तो गुरुवार के दिन कुछ उपाय बताए गए हैं जिन्हें करने से सभी संकट दूर हो जाते हैं।

इसे भी पढ़ें :

मनोवांछित फल पाने के लिए गुरुवार को ऐसे करें व्रत-पूजा, गलती से भी न करें ये काम

करवा चौथ 2019 : यूं ट्रेडिशनल साड़ी में भी फुल स्लीव ब्लाउज़ से पाएं स्टाइलिश लुक

- अगर शादी में बाधा आ रही है तो सबसे पहले गुरुवार की पूजा के साथ व्रत भी करना शुरू कीजिए। साथ ही गुरुवार के दिन केले के पेड़ पर जल अर्पित जरूर करें। इसके बाद शुद्ध घी का दीपक जलाकर गुरुदेव के 108 नाम का उच्चारण करें।

गुरुवार को करते हैं भगवान विष्णु के खास उपाय 
गुरुवार को करते हैं भगवान विष्णु के खास उपाय 

मान्यता है कि ऐसा करने से बाधाएं टल जाएंगी और रिश्ता जल्द से जल्द पक्का होगा। सुयोग्य वर या वधु की तलाश खत्म होगी।

- कारोबार में उतार-चढ़ाव तो चलते रहते हैं लेकिन कई बार लगातार नुकसान आपका मनोबल तोड़ देता है। ऐसे में बिजनेस के घाटे से उबरने के लिए गुरुवार को खास उपाय बताया गया है।

अगर व्यापार में लगातार घाटा हो रहा है तो उससे उबरने के लिए कार्यस्थल पर बने पूजास्थल पर हल्दी की माला लटका दें। साथ ही पीले रंग की वस्तुओं का अधिक इस्तेमाल करें।

गुरुवार को यूं विधि-विधान से करें भगवान विष्णु की पूजा 
गुरुवार को यूं विधि-विधान से करें भगवान विष्णु की पूजा 

- घर में शांति नहीं रहती है। रोज घरेलू झगड़ों का सामना करना पड़ रहा हो तो उसका इलाज भी गुरुवार के दिन बताया गया है। अगर घर में दरिद्रता प्रवेश कर चुकी है तो उसे दूर करने के लिए कुछ नियम आपको मानने होंगे।

जैसे इस दिन घर की कोई महिला सिर के बाल न धोएं। साथ ही नाखून काटने से भी बचें। ऐसा करने से घर में बस चुकी दरिद्रता वापस चली जाएगी।