हम सब जानते ही हैं कि पितृपक्ष शुरू हो चुका है जो 28 सितंबर तक चलेगा। इन दिनों में पितरों को तृप्त करने के लिए उनका पिंडदान पूरे विधि-विधान से किया जाता है।

माना जाता है कि पितृपक्ष में पितरों का श्राद्ध व पिंडदान करने से पितर तृप्त होकर वरदान देते हैं। इससे परिवार में सुख, समृद्धि और शांति आती है।

वहीं यह जानना भी जरूरी है कि पितृ पक्ष के दौरान श्राद्ध कर्म के भी नियम होते हैं, जिसका पालन करना आवश्यक माना गया है। इन नियमों से श्राद्ध कर्म को पूरा करने से पितर तृप्त होते हैं।

पितृपक्ष
पितृपक्ष

अपने पितरों को तृप्त करने की क्रिया तथा देवताओं, ऋषियों या पितरों को काले तिल मिश्रित जल अर्पित करने की प्रक्रिया को तर्पण कहा जाता है। पितरों को तृप्त करने के लिए श्रद्धा पूर्वक जो प्रिय भोजन उनको दिया जाता है, वह श्राद्ध कहलाता है।

ये है श्राद्ध के नियम ...

पितरों के श्राद्ध के लिए कुछ नियम हैं, जिनका अनुसरण करना जरूरी है। आइए जानते हैं उन नियमों के बारे में —

- धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, पितर लोक दक्षिण दिशा में होता है। इस वजह से पूरा श्राद्ध कर्म करते समय आपका मुख दक्षिण दिशा की ओर होना चाहिए।

इसे भी पढ़ें :

पितृपक्ष - 2019 : जानें कब से शुरू हो रहे हैं पितृपक्ष, क्यों किया जाता है पूर्वजों का श्राद्ध

- पितर की तिथि के दिन सुबह या शाम में श्राद्ध न करें, यह शास्त्रों में वर्जित है। श्राद्ध कर्म हमेशा दोपहर में करना चाहिए।

पितृपक्ष में कौवे का महत्व 
पितृपक्ष में कौवे का महत्व 

- पितरों को तर्पण करने के समय जल में काले तिल को जरूर मिला लें। शास्त्रों में इसका महत्व बताया गया है।

- श्राद्ध कर्म के पूर्व स्नान आदि से निवृत्त होकर व्यक्ति को सफेद वस्त्र धारण करना चाहिए। ब्रह्मचर्य का पालन करें, मांस-मदिरा का सेवन न करें। मन को शांत रखें।

इसे भी पढ़ें :

पितृपक्ष 2019 : जानें आखिर पितृपक्ष में क्यों नहीं होते शुभ काम, क्यों कौवे के बिना अधूरा होता है श्राद्ध

- पितरों को जो भी भोजन दें, उसके लिए केले के पत्ते या मिट्टी के बर्तन का इस्तेमाल करें।

जो लोग इन नियमों का पालन करते हुए श्राद्ध कर्म को पूरा करते हैं, वे स्वर्ग के भागी बनते हैं।