Google ने अमृता प्रीतम पर बनाया Doodle, 100वें जन्मदिवस की दे रहा बधाई

गूगल डूडल - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : मुहब्बत की दुनिया में आज भी अमृता प्रीतम का नाम सबसे ऊपर आता है। अपने शब्दों को कलम से धार देकर कागजों पर उतारने वालीं अमृता प्रीतम का आज 100वां जन्मदिवस है। गूगल ने भी डूडल बनाकर अमृता प्रीतम को सम्मान दिया है।

पंजाबी के सबसे लोकप्रिय लेखकों में अमृता प्रीतम का नाम आता है। अमृता को पंजाब की पहली कवियत्री होने का भी गौरव प्राप्त है। गूगल ने अपने डूडल में अमृता प्रीतम की एक पिक्चर तैयार की है, जिसमें वह कुछ लिखते हुए देखी जा सकती हैं। इस डूडल पर क्लिक करके आपको उनसे संबंधित तमाम जानकारी मिलेगी।

अमृता प्रीतम का जन्म 1919 में गुजरांवाला पंजाब में हुआ। उनका बचपन और प्रारंभिक शिक्षा लाहौर में हुई। उन्हें बचपन से ही कविताएं लिखने का शौक था। न सिर्फ कविताएं बल्कि कहानी और निबंध लिखने में भी उनका गजब का शौक था। पांच बरस लंबी सड़क, पिंजर, अदालत, कोरे कागज, उन्चास दिन, सागर और सीपियां जैसे उपन्यास ने उन्हें अमर कर दिया।

यह भी पढ़ें :

अमृता प्रीतम की वो मशहूर नज़्में, जो आज भी है लोगों की जुबां पर

मीना कुमारी के आगे सुपरस्टार भी भूल जाते थे डायलॉग, जानिए उनकी जिंदगी से जुड़ी कुछ अनसुनी बातें

उनकी लेखनी का लोहा बड़े-बड़े साहित्यकार और उपन्यासकार मानते थे। अमृता प्रीतम को साहित्य की सेवा के लिए कई सम्मान से सम्मानित किया गया। 1957 में साहित्य अकादमी पुरस्कार, 1958 में पंजाब सरकार के भाषा विभाग द्वारा पुरस्कृत, 1988 में बल्गारिया वैरोव पुरस्कार (अन्तर्राष्ट्रीय) और 1982 में भारत के सर्वोच्च साहित्त्यिक पुरस्कार ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

Advertisement
Back to Top