नई दिल्ली : पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की आज 75वीं जयंती है। इस मौके पर पूरा देश उन्हें याद कर रहा है। राजीव गांधी के समाधिस्थल वीरभूमि पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने श्रद्धांजलि दी. पीएम मोदी ने भी ट्विटर पर राजीव गांधी को श्रद्धांजलि दी।

राजीव गांधी देश के सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री बने थे। 20 अगस्त 1944 को जन्में राजीव गांधी 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद, उन्हें प्रधानमंत्री की कुर्सी मिली थी। तब उनकी उम्र महज 40 साल थी। पायलट की ट्रेनिंग ले चुके राजीव गांधी राजनीति में आने को इच्छुक नहीं थे, लेकिन परिस्थितियों ने उन्हें देश का सबसे कम उम्र का प्रधानमंत्री बना दिया।

राजीव को लेकर स्वामीजी की भविष्यवाणी

राजीव गांधी राजनीति में आने के इच्छुक नहीं थे। राजीव की राजनीति में आने को लेकर एक दिलचस्प वाकया है। जब संजय गांधी की प्लेन क्रैश में मौत हो गई थी, तब इंदिरा गांधी और राजीव से काफी लोग मिलने आ रहे थे। इसी अवसर पर शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंदजी भी परिवार से मिलने गए थे।

इंदिरा गांधी से मुलाकात के दौरान स्वामी ने कहा कि अब राजीव को ज्यादा लंबे वक्त तक प्लेन नहीं उड़ाना चाहिए। इस पर इंदिरा गांधी ने कहा कि राजीव अगर प्लेन नहीं उड़ाएगा तो करेगा क्या? स्वामी जी बोले- ‘अगर कोई इंसान खुद को भगवान को सौंप देता है तो ईश्वर ही उसकी आगे की देखभाल करते हैं। मेरा विश्वास है कि राजीव को खुद को देशसेवा में समर्पित कर देना चाहिए।"

इसके बाद कांग्रेस के नेता और सांसद राजीव गांधी से राजनीति में आने का आग्रह करने लगे। लेकिन राजीव गांधी कहा करते थे कि अगर मेरे राजनीति में आने से मेरी मां को मदद मिलती है तो मैं जरूर राजनीति में आ जाऊंगा। वहीं इंदिरा गांधी ने राजीव के फैसले पर छोड़ दिया था।

राजीव गांधी का शौक

बहुत कम लोगों को पता है कि राजीव गांधी को फोटोग्राफी का भी शौक था। फोटोग्राफी के बारे में वो गहरी समझ रखते थे। कई मौकों पर उन्हें कुछ पब्लिशर्स ने फोटोग्राफी को लेकर किताब लिखने को कहा लेकिन अपने जीवनकाल में राजीव गांधी ऐसा कुछ नहीं कर पाए।

इसे भी पढ़ें :

राजीव गांधी की 75वीं जयंती आज, देश भर में कार्यक्रम आयोजित करेगी कांग्रेस

जानिए क्यों इंदिरा नहीं चाहती थीं राजीव गांधी की सोनिया से हो शादी

उनके निधन के बाद सोनिया गांधी ने उनके खीचें फोटोग्राफ्स को लेकर एक किताब रिलीज करवाई। किताब का नाम है- Rajiv's World- Photographs by Rajiv Gandhi। 1995 में आई इस किताब में 4 दशकों में खींचे गए राजीव गांधी के फोटोग्राफ्स शामिल हैं। इसमें जंगल, पहाड़, झरने जैसे कुदरती खूबसूरती वाले फोटोग्राफ्स के साथ राजीव के पालतू जानवरों से लेकर उनके दोस्तों और रिश्तेदारों के फोटोग्राफ्स तक शामिल हैं।

अपनी कार खुद चलाया करते थे राजीव गांधी

राजीव गांधी ऐसे एकलौते प्रधानमंत्री रहे हैं, जो अपनी कार खुद चलाया करते थे। चुनाव यात्राओं के दौरान भी वो खुद ही ड्राइव करके सभा स्थल तक पहुंच जाया करते थे। प्रधानमंत्री रहने के दौरान वो कई मौकों पर खुद ही कार ड्राइव किया करते थे।

राजीव गांधी पर किताब लिखने वाले पत्रकार सुमन चट्टोपाध्याय ने अपनी किताब में लिखा है कि एक बार बंगाल के एक चुनाव में उन्हें राजीव गांधी के साथ कार में यात्रा का अवसर मिला। राजीव खुद ही ड्राइव कर रहे थे। वो ग्रां प्री ड्राइवर की तरह स्टेट हाइवे पर कार को भगाए जा रहे थे। कई बार उनकी सुरक्षा काफिले में चल रही गाड़ियां उनसे काफी पीछे छूट जातीं। राजीव गांधी की स्पीड को मैच करना आसान नहीं था।