हमारे देश में कई मंदिर है जिनकी पौराणिक महत्ता रही है। वहीं कुछ अद्भुत तो कुछ अनोखे मंदिर भी है। इन मंदिरों की कहानियां भी बड़ी रोचक है।

आइये यहां एक ऐसे ही अनोखे मंदिर के बारे में जानते हैं ...

उत्तराखंड में वाराही धाम नामक यह मंदिर स्थित है। मां वराही धाम देवीधुरा का मंदिर देश के गिने चुने वैष्णव मंदिरों में से एक है। यह बड़ा ही अद्भुत-अलौकिक धाम है।

यहां पर पृथ्वी माता की वाराही स्वरूप में पूजा होती है। भगवान विष्णु का यह धाम रक्षाबंधन के दिन पत्थर युद्ध के लिए भी प्रसिद्ध है।

वाराही धाम
वाराही धाम

पौराणिक कथा के अनुसार, जब हिरणाक्ष्य पृथ्वी को पाताल लोक ले जा रहा था तो पृथ्वी ने भगवान विष्णु से अपनी रक्षा के लिए करुण पुकार की। उनकी पुकार सुनकर भगवान विष्णु वैकुंठ छोड़कर पृथ्वी को बचाने चले आए।

भगवान विष्णु का वराह अवतार

श्रीहरि ने वराह अवतार लेकर पृथ्वी को अपने वाम अंग में ले लिया और उसे डूबने से बचाया, तभी से पृथ्वी स्वरूपा वैष्णवी वाराही कहलाईं। मां वाराही सदियों से यहां गुफा में विराजमान हैं, भक्त अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए उनके दर्शन करने आते हैं।

ऐसी मान्यता है कि जो भी भक्त सच्चे मन से गर्भ गुफा में प्रवेश कर मां वाराही का ध्यान करता है, मां वाराही उसकी समस्त मनोकामनाओं को पूरी कर देती हैं।

इसे भी पढ़ें :

अद्भुत है तमिलनाडु का नागनाथस्वामी मंदिर, शिवलिंग पर चढ़ते ही बदल जाता है दूध का रंग

वाराही धाम में रक्षाबंधन पर होता है पत्थर युद्ध

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि यहां हर साल रक्षाबंधन के दिन पत्थर से युद्ध होता है। वाराही धाम में होने वाले युद्ध को 'बग्वाल' कहा जाता है। देवीधुरा के खोलीखांड़ दुबाचौड़ में वालिक, लमगडिय़ा, चम्याल और गहड़वाल खामों यानी दलों के लोग दो भागों में बंटकर यह पत्थर युद्ध खेलते हैं।

पौराणिक कथा के अनुसार, देवासुर संग्राम में मुचकुंद राजा की सेना ने भी भाग लिया था, जिसने असुरों को मां वाराही की कृपा से पराजित किया था। तब देव सेना ने प्रसन्न होकर प्रतीक स्वरूप बग्वाल खेली और ई-ह-हा-हा-इ-ही का वैदिक उद्घोष किया।