सावन का पावन महीना तो चल ही रहा है और अब आ गया सावन का पहला सोमवार। इस दिन भगवान शिव की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है, व्रत किया जाता है। शिव को प्रसन्न करने के कई उपाय किये जाते हैं ताकि मनोवांछित फल की प्राप्ति हो सके।

सावन सोमवार को ऐसे करें पूजा ...

- सोमवार का व्रत करने वाले को ब्रह्म मुहूर्त में उठ जाना चाहिए। फिर दैनिक क्रियाओं से निवृत्त होकर स्नान कर लेना चाहिए।

- साफ-सुथरे कपड़े पहनकर भगवान शिव की पूजा शुरू कर देनी चाहिए।

-भगवान शिव का शिवलिंग अगर घर में हो तो उसपर गंगा जल चढ़ाएं। इसके लिए तांबे के लोटे में जल भरकर उसमें थोड़ा सा गंगा जल मिला लें।

- भोलेनाथ का अभिषेक करने के बाद उनको सफेद चंदन चढ़ाएं, फूल अर्पित करें, धूप-दीप करें।

भगवान शिव की पूजा 
भगवान शिव की पूजा 

- इसके बाद ऊं नम: शिवाय मंत्र का जाप करें। फिर शिव चालीसा का पाठ करें और आरती करें।

- भगवान शिव को नैवेद्य का भोग लगाएं और प्रसाद सबमें बांटें।

- व्रती को फलाहार करके दिन भर उत्तम आचरण करना चाहिए। शाम के समय भगवान शिव की पूजा करके मंत्र जाप करें और फिर आरती करने के बाद व्रत का पारण कर लें और प्रसाद ग्रहण करें।

व्रत के साथ इन नियमों का पालन भी है जरूरी ....

- व्रत करने वाले व्यक्ति को झूठ नहीं बोलना चाहिए, साथ ही वह किसी भी तरह के बुरे काम न करें और न ही बुरे विचार मन में लाएं।

- भगवान शिव को बेलपत्र जरूर चढ़ाएं।

- सावन में बैंगन न खाएं तो ही ठीक रहेगा।

भगवान शिव का दुग्धाभिषेक 
भगवान शिव का दुग्धाभिषेक 

- मांस-मदिरा के सेवन से बचें। अपने व्यवहार को किसी भी तरह से दूषित न करें।

- सावन हरियाली का मौसम है और हरियाली शिवजी को पसंद है तो इस मौसम में किसी पेड़ को काटने की गलती न करें बल्कि कहीं पेड़ लगाएंगे तो बेहतर होगा।

कुछ ऐसे उपाय भी है जिनको सावन सोमवार को भगवान शिव के सामने करने से हमारी हर तरह की समस्याएं खत्म हो जाती है और हमें कष्टों से मुक्ति मिल जाती है।

अगर आपके विवाह में बाधा आ रही है तो आप यह उपाय कर सकते हैं ...

- सबसे पहले 108 बेलपत्र ले लें। बेलपत्र पर चंदन से राम लिखें और हर बेलपत्र को शिवलिंग पर चढ़ाएं और शीघ्र विवाह की प्रार्थना करें।

इसे भी पढ़ें :

श्रावण 2019 : इस बार सावन का हर सोमवार है खास, जानें कैसे करें भोले बाबा को प्रसन्न

संतानप्राप्ति में बाधा हो रही है तो ये उपाय करें ...

भगवान शिव के मंदिर जाकर घी चढ़ाएं। उसके बाद उन्हें जल की धारा चढ़ाएं। संतानप्राप्ति के लिए प्रार्थना करें।

पंचामृत से करें अभिषेक ...

भगवान शिव का पंचामृत से अभिषेक करें यानि दूध, दही, शहद, शक्कर व घी से अभिषेक करें और समस्या से मुक्ति की प्रार्थना करें। भगवान शिव आपको अनुगृहित करेंगे।