आज यानी शुक्रवार 12 जुलाई 2019 को देवशयनी एकादशी है ये तो हम सब जानते ही हैं। भगवान विष्णु देवशयनी एकादशी को योग निद्रा में जाते हैं और इस दिन उनकी पूजा, व्रत का विशेष महत्व होता है।

वहीं आप यह भी जान लें कि इस बार देवशयनी एकादशी कई शुभ व दुर्लभ योगों के साथ आई है। ऐसे में भगवान विष्णु की आराधना सवोत्तम फल देने वाली है।

- देवशयनी एकादशी के दिन सर्वार्थ सिद्धि शुभ योग दोपहर 03:57 बजे से शुरु हो रहा है, जो अगले दिन तक रहेगा। सर्वार्थ सिद्धि योग में व्यक्ति कोई भी धार्मिक या मांगलिक कार्य शुभ फलदायी होगा। इस योग में श्रीहरि विष्णु की पूजा भी उत्तम फल देने वाली होती है।

- सर्वार्थ सिद्धि योग के अलावा एक और संयोग है कि देवशयनी एकादशी शुक्रवार के दिन पड़ रही है। यह दिन भगवान विष्णु की पत्नी माता लक्ष्मी को समर्पित है, इस दिन भगवान विष्णु की पूजा से दोनों का आशीर्वाद प्राप्त होगा और मनोकामनाएं पूर्ण होंगी।

भगवान विष्णु की पूजा 
भगवान विष्णु की पूजा 

- सर्वार्थ सिद्धि और शुक्रवार के योग के अलावा इस दिन रवि योग भी है। सूर्य के आशीर्वाद के कारण इस दिन कोई भी मांगलिक, धार्मिक या नवीन कार्य करना शुभ फलदायी होता है। रवि योग में अशुभ योग के के सभी दुष्प्रभाव खत्म हो जाते हैं।

वहीं कुछ खास उपाय भी देवशयनी एकादशी पर विशेष फल पाने के लिए किये जा सकते हैं ....

- भगवान विष्णु का अभिषेक देवशयनी एकादशी पर दक्षिणावर्ती शंख में गंगाजल भरकर करें। इससे भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं।

इसे भी पढ़ें :

जानें आखिर बुधवार को ही क्यों की जाती है भगवान गणेश की पूजा

- वहीं देवशयनी एकादशी पर भगवान विष्णु को खीर, पीले फल या पीले रंग की मिठाई का भोग लगाने से भी मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है।

- अगर आप धन लाभ चाहते हैं तो इस दिन भगवान विष्णु के साथ माता लक्ष्मी की भी पूजा करें।

- एकादशी की शाम तुलसी के सामने गाय के शुद्ध घी का दीपक लगाएं और तुलसी के पौधे को प्रणाम करें।

- पीपल में भगवान विष्णु का वास माना जाता है। इसलिए एकादशी पर पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाएं।

- विष्णु भगवान के मंदिर में जाकर अन्न (गेहूं, चावल आदि) दान करें। बाद में इसे गरीबों में बांट दें।