नई दिल्ली : मां का स्थान दुनिया में सबसे ऊंचा होता है। वैसे तो हर दिन मां के सम्मान का होता है, फिर भी सदियों पहले यह तय किया गया कि साल में एक दिन मां के त्याग और उनकी तपस्या को याद करने के लिए निर्धारित होगा, जिसे मदर्स डे के नाम से मनाया जाता है। इस बार मदर्स डे 12 मई को है। आइये जानते हैं मदर्स डे से जुड़ी कुछ प्रमुख जानकारी।

मदर्स डे मनाने के पीछे की वजह यह है कि साल में एक दिन मां को स्पेशल फील कराया जाए। सालभर घर-परिवार को संभालने की जद्दोजहद के बीच एक दिन मां को समर्पित होता है। इस दिन उनके अहसान को याद किया जाता है। इस दिन जैसे भी अपनी मां से प्यार जता सकते हैं, वो सब किया जाता है।

डिजाइन इमेज
डिजाइन इमेज

कैसे हुई मदर्स डे की शुरुआत?

मदर्स डे की शुरुआत अमेरिका से हुई है। मदर्स डे से जुड़ी एक कहानी है। जिसके अनुसार, अमेरिकन एक्टिविस्ट एना जार्विस अपनी मां से बहुत प्यार करती थीं। उन्होंने अपनी मां के साथ हमेशा रहने के लिए ना तो शादी की और ना ही परिवार बसाने के बारे में कभी सोचा। मां की मौत के बाद उन्होंने एक दिन अपनी मां को समर्पित करने का फैसला किया और तब से ही मदर्स डे की शुरुआत हुई। धीरे-धीरे यह विश्व के कई देशों में मनाया जाने लगा।

यह भी पढ़ें :

Mother’s Day Special : त्याग,बलिदान व निस्वार्थ प्रेम की मूरत है मां

मदर्स डे कब मनाया जाता है?

विश्व में मदर्स डे की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए 9 मई 1914 को अमेरिकी प्रेसिडेंट वुड्रो विल्सन ने एक कानून पास किया। इस कानून के मुताबिक तय हुआ कि प्रत्येक साल मई महीने के दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाया जाएगा। यह परंपरा तब से चली आ रही है।