नई दिल्ली: पाक अधिकृत कश्मीर का होरन गांव, जहां भारतीय वायुसेना के व‍िंग कमांडर अभिनंदन ने पैराशूट से छलांग लगाई थी। ये ज‍िला भंबर ज‍िले में आता है। यह गांव पहाड़ों पर ही बसा है और रास्ते भी पथरीले हैं। एक निजी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार होरन गांव से करीब 250 मीटर की दूरी पर पाक‍िस्तानी फाइटर जेट से लड़ते हुए व‍िंग कमांडर अभिनंदन का व‍िमान क्रैश हुआ था। व‍िमान क्रैश होने के बाद अभिनंदन इसी गांव की एक पहाड़ी पर पैराशूट से उतरे थे।

इस गांव में हुए धमाके से पूरा गांव दहल गया था। करीब 10 द‍िन बाद भी उस जगह पर आज भी जहाज के मलबे के न‍िशान देखे जा सकते हैं इसी गांव में रहने वाले कामरान ने आसमान में होने वाली जंग देखी थी। 27 फरवरी की सुबह 9 बजकर 45 म‍िन‍ट का समय हुआ था।

गांव के निवासी कामरान के कम से कम 6 जहाज एक दूसरे जहाज की घेराबंदी कर रहे थे जो पहाड़ों के पीछे से आया था। ये व‍िंग कमांडर अभ‍िनंदन का ही जहाज था। कामरान के देखते देखते ही अभिनंदन के व‍िमान पर हमला हो गया। उसके बाद अभिनंदन को पैराशूट से नीचे उतरते भी देखा गया था। अभिनंदन, पैराशूट से धीरे-धीरे नीचे उतर रहे थे। अभिनंदन इस बात से बेखबर थे नीचे की धरती दुश्मन देश की है।

प्रत्यक्षदर्शी कामरान ने बताया कि एक आदमी पैराशूट की सहायता से धीरे-धीरे नीचे उतर रहा था हम उसके करीब जाना चाहते थे लेक‍िन उसके पास हथ‍ियार थे।" यहां के लोग इस बात को समझ चुके थे क‍ि पैराशूट से उतरने वाला शख्स ह‍िंदुस्तानी है। पाक‍िस्तानी आर्मी की तरह यहां के लोग भी उसके खून के प्यासे हो गए। वे अभ‍िनंदन की तरफ दौड़ने लगे गांव की भीड़ अभिनंदन को पूरी तरह कब्जे में लेना चाहती थी। इसल‍िए वे पहले सवाल के जवाब में झूठ बोले क‍ि ये जगह ह‍िंदुस्तान में ही है।

इसे भी पढ़ें :

IAF Wing Commander अभिनंदन के पिता ने कहा, बेटे की बहादुरी पर गर्व, सुरक्षित लौटने की जताई उम्मीद

कामरान ने बताया क‍ि वह हमसे पानी मांग रहे थे। मोबाइल भी मांग रहे थे क‍ि मुझे बात करनी है। हमने कहा क‍ि तुम अपने हथियार दूर फेंको। हम आपको पानी भी देंगे और मोबाइल भी देंगे। वे बोले क‍ि मेरी कमर टूट चुकी तो हमने कहा क‍ि हम अस्पताल भी लेकर जाएंगे। फ‍िर उन्होंने पूछा क‍ि ये इंड‍िया है या पाक‍िस्तान तो हमने कहा क‍ि यह इंड‍िया है।

इसके बाद भीड़ को भी समझ में आ गया था क‍ि अभिनंदन समझ चुके हैं क‍ि वह भारत में नहीं हैं। लेक‍िन वे उनके पास नहीं जा रहे थे क्योंक‍ि हाथ में प‍िस्तौल थी। अभिनंदन ने पानी मांगा लेक‍िन भीड़ ने मना क‍र द‍िया।

विंग कमांडर अभिनंदन 
विंग कमांडर अभिनंदन 

प‍िस्तौल के सहारे वह दुश्मन देश के गांव से न‍िकलने की कोश‍िश करते रहे लेक‍िन भीड़ उनका पीछा कर रही थी। नदी के पास में आकर जब क‍िसी ने उनकी टांग की नीचे राइफल से गोली चलाई तब जाकर अभिनंदन ने प‍िस्तौल को फेंका। प‍िस्तौल फेंकते ही भीड़ न‍िहत्थे ह‍िंदुस्तानी पर टूट पड़ी। कुछ मिनटों के अंदर ऐसे हालात बन गए जैसे भीड़ जान लेकर ही मानेगी। पाकिस्तानी आर्मी यहीं से अरेस्ट करके अभिनंदन को अपने साथ ले गई थी।

यह खबर पाक‍िस्तान में आग की तरह फैल गई सेना के अफसरों को ये जानकारी आधी-अधूरी दी गई इसी वजह से उन्होंने ऐलान क‍िया क‍ि दो भारतीय पायलट पकड़े गए हैं जबक‍ि हकीकत में वह एक ही था।