हैदराबाद : गुलाब का फूल किसे पसंद नहीं होता। यह अपनी महक और खूबसूरती की वजह से इसे फूलों का राजा बनाती है। यही वजह है कि वेलेंटाइन डे के मौके पर इसकी मांग बहुत बढ़ जाती है। इसके साथ ही गुलाब का फूल अपनेआप में सेहत भरे गुणों की भी खान है। इसका प्रयोग न सिर्फ छोटी समस्‍याओं को दूर करता है, बल्‍क‍ि कई दर्द में भी आराम देता है।

- गुलाब में विटामिन सी बहुत मात्रा में पाया जाता है। गुलकंद रोज खाने से हड्डियां मजबूत हो जाती है।

- कान में दर्द होने पर गुलाब की पत्तियों के रस की थोड़ी बूंदे कान में डालने से कान के दर्द में राहत मिलेगी।

- गुलाब के अर्क में नींबू का रस मिलाकर दाद पर लगाने से दाद ठीक हो जाता है।

- गुलाब की पत्तियों को ग्लिसरीन डालकर पीस लें। इस मिश्रण को होंठों पर लगाएं। इससे होंठ गुलाबी और चिकने हो जाते हैं।

- नींद न आती हो या तनाव रहता हो तो सिर के पास गुलाब रखकर सोएं, अनिद्रा की समस्या दूर हो जाएगी।

इसे भी पढ़ें :

लाल गुलाब से करिए इजहार-ए-इश्क, पीला कहता है मुझसे दोस्ती करोगे...!

- शरीर में जलन होने पर या हाथ पैर में जलन होने पर गुलाबजल को चंदन में मिलाकर इसका लेप लगाएं।

- खाना खाने के बाद गुलकंद खाने से हाजमा ठीक रहता है।

- चंदन के तेल में गुलाब के अर्क को मिलाकर मालिश करने से शीत पित्त में फायदा मिलता है।

- जी मिचलाना, गले में जलन, सीने में जलन जैसे रोगों को दूर करने के लिए 1 कप गुलाबजल, चैथाई कप संतरे का रस और चौथाई कप चूने का पानी को मिलाकर दिन में 2 बारी सेवन करें। आपको इन रोगों से निजात मिल जाएगी।

- मुंह की बदबू को दूर करने के लिए गुलाब के फूल, लौंग और चीनी को गुलाब जल में पीसकर गोलियां बनाकर चूसें। यह मुंह की दुर्गंध को दूर करता है।

- सनाय की पत्ती को गुलकंद के साथ सेवन करने से कब्ज दूर होती है।

- अत्याधिक गर्मी लगने पर या जलन होने पर 5 इलायची, 10 ग्राम गुलाब की पंखुड़ी, 5 काली मिर्च और 10 ग्राम मिश्री को पीसकर हर चार घंटे पर पीएं। आराम मिलेगा।