हैदराबाद : फरवरी का महीना शुरू होते ही वेलेंटाइन डे के लिए तैयारियां शुरू होने लगती हैं। अगर आप भी अपने पार्टनर के लिए कुछ स्पेशल प्लान करने की सोच रहे हैं तो जल्दी कर लीजिए। क्योंकि वेलेंटाइन वीक शुरू होने वाला है। इस मौके पर आप भी दें अपने पार्टनर को सरप्राइज और प्लान करें उनके लिए कुछ खास।

क्या आप जानते हो की वैलेंटाइन डे क्यों मनाया जाता है, वैलेंटाइन डे कब मनाया जाता है? और इसके पीछे का सच क्या है? अगर आप नहीं जानते हैं तो हम आपको बता रहे हैं।

ऐसे हुआ नामकरण

ऐसा माना जाता है कि वेलेंटाइन-डे मूल रूप से संत वेलेंटाइन के नाम पर रखा गया है। परंतु इस विषय में विभिन्न मत हैं इसकी सटीक जानकारी नहीं है। कहा जाता है कि 1969 में कैथोलिक चर्च ने कुल ग्यारह सेंट वेलेंटाइन के होने की पुष्टि की और 14 फरवरी को उनके सम्मान में पर्व मनाने की घोषणा की। इनमें सबसे महत्वपूर्ण वेलेंटाइन रोम के सेंट वेलेंटाइन माने जाते हैं।

यह भी कहा जाता है कि सेंट वेलेंटाइन ने अपनी मृत्यु के समय जेलर की नेत्रहीन बेटी जैकोबस को नेत्रदान किया व जेकोबस को एक पत्र लिखा, जिसमें अंत में उन्होंने लिखा था 'तुम्हारा वेलेंटाइन'। यह दिन था 14 फरवरी, जिसे बाद में इस संत के नाम से मनाया जाने लगा और वेलेंटाइन-डे के बहाने पूरे विश्व में निःस्वार्थ प्रेम का संदेश फैलाया जाता है।

इसे भी पढ़ें :

..तो इसलिए मनाया जाता है वेलेंटाइन वीक, हर दिन का होता है नया प्लान व नया तरीका

कान्सेप्ट  फोटो
कान्सेप्ट  फोटो

वेलेंटाइन इतिहास

एक इतिहास यह भी है कि जब तीसरी सदी थी तो रोम में क्‍लॉडियस नाम का राजा था और उसी का राज हुआ करता था। क्‍लॉडियस मानते थे की विवाह (शादी) करने से पुरषों का दिमाग और शक्ति दोनों ही खत्म हो जाती है।

इसी सोच के साथ क्‍लॉडियस ने पूरे राज्य में यह आदेश जारी कर दिया की उसके जितने भी सैनिक और अधिकारी है वे विवाह नही करेंगे, पर जो संत वैलेंटाइन है उन्होंने क्‍लॉडियस के इस आदेश पर कड़ा विरोध जताया और पूरे साम्राज्य में लोगों को शादी करने के लिए प्रेरित किया।

संत वेलेंटाइन ने रोम में कई सैनिको और अधिकारियों की शादी करवाई। क्लॉडियस ने जब अपना विरोध देखा तो वे सह ना सका, उसने 14 फरवरी सन 269 में संत वेलेंटाइन को फांसी पर चढ़वा दिया, तब से उनकी याद में वेलेंटाइन डे का त्यौहार मनाया जाता है। यहीं कारण है की वेलेंटाइन डे का महत्व इतना बड़ा है।

कान्सेप्ट फोटो
कान्सेप्ट फोटो

वेलेंटाइन कार्ड

पहले लोग इस दिन एक दूसरे को हाथ से बने दिल आकार का कार्ड देते थे, जिसपर उनकी जज्जबात लिखी हुई होती थी। जिसे लोग वेलेंटाइन कार्ड कहते थे। अब बाजार में एक से बड़कर एक कार्ड आने लगे हैं। पश्चिमी देशों में क्रिसमस डे के बाद इसी त्यौहार में सबसे ज्यादा कार्ड्स एक दूसरे को भेजे जाते हैं।

वेलेंटाइन में गिफ्ट

वेलेंटाइन डे में गिफ्ट का बहुत अहमियत होता है। गिप्ट को पैसों से नहीं तोलना चाहिए। मेरा मानना है कि गिफ्ट का महत्व तब है जब दिल से दिया जाए। गिफ्ट बड़ा हो या छोटा यह महत्व नहीं रखता है बल्कि गिफ्ट में नियत को देखा जाता है। इसलिए गिफ्ट देते समय खास ख्याल रखें।

वैसे तो प्यार करने वाले लोगो के लिए सारे दिन वैलेंटाइन दिन होते है और अपने लव पार्टनर से प्यार का इजहार करने और जताने के लिए कोई भी दिन और तारीख मायने नहीं रखती है। तो मेरी आपके लिए बस यही दुआ है की जिससे आप प्यार करते हो वो आपको मिले आप दोनों खुश रहें।

चलो आज खामोश प्यार को इक नाम दे दें,

अपनी मुहब्बत को इक प्यारा अंजाम दे दें।

इससे पहले कहीं रुठ ना जाए ये मौसम

धड़कते हुए अरमानों को एक सुरमई शाम दे दें।